मतदाता हेल्पलाइन ऐप (एंड्राइड के लिए)
अंग्रेज़ी में देखें   |   मुख्य विषयवस्तु में जाएं   |   स्क्रीन रीडर एक्सेस   |   A-   |   A+   |   थीम
Jump to content

वर्तमान मुद्दे

1,240 files

  1. Commission’s order to Sh. Gopal Bhargav of Bhartiya Janata Party

    Commission’s order to
    Sh. Gopal Bhargav of Bhartiya Janata Party
    and Leader of Opposition in the Legislative Assembly of Madhya Pradesh

    24 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  2. Pre-certification of Political Advertisements in Print Media on the day of poll & one day prior to poll in Haryana & Maharashtra– regarding.

    Pre-certification of Political Advertisements in Print Media on the day of poll & one day prior to poll in Haryana & Maharashtra– regarding.

    12 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  3. दिनांक 01.01.2020 की अर्हक तिथि के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों के विशेष सार पुनरीक्षण और निर्वाचक सत्‍यापन कार्यक्रम की संशोधित अनुसूची – तत्‍संबंधी

    दिनांक 01.01.2020 की अर्हक तिथि के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों के विशेष सार पुनरीक्षण और निर्वाचक सत्‍यापन कार्यक्रम की संशोधित अनुसूची – तत्‍संबंधी

    106 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  4. मतदाता शिक्षा और जागरूकता-2019 के संबंध में सर्वश्रेष्‍ठ अभियान के लिए राष्‍ट्रीय मीडिया अवार्ड (ज्ञापन)

    सं. 491/मीडिया अवार्ड/2019/संचार
    दिनांक: 9 अक्तूबर, 2019
     
    ज्ञापन
     मतदाता शिक्षा एवं जागरूकता पर सर्वश्रेष्‍ठ अभियान हेतु
    राष्‍ट्रीय मीडिया पुरस्‍कार-2019
     भारत निर्वाचन आयोग वर्ष 2019 के दौरान मतदाता शिक्षा एवं जागरूकता पर सर्वश्रेष्‍ठ  अभियान के लिए राष्‍ट्रीय मीडिया पुरस्‍कार हेतु मीडिया हाउसों से प्रविष्टियाँ आमंत्रित करता है। इनमें चार पुरस्‍कार होंगे, प्रिंट मीडिया, टेलीविजन (इलेक्‍ट्रॉनिक), रेडियो (इलेक्‍ट्रॉनिक) और ऑनलाइन (इंटरनेट)/सोशल मीडिया में से प्रत्‍येक के लिए एक।
    2.     ये पुरस्‍कार सुगम निर्वाचनों के बारे में जागरुकता लाकर, निर्वाचन प्रक्रिया के बारे में लोगों को जानकारी प्रदान करके और मतदान तथा पंजीकरण की प्रासंगिकता और महत्ता के बारे में जन साधारण के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए मीडिया हाउसों द्वारा किए गए असाधारण योगदानों को मान्‍यता प्रदान करने के लिए हैं।
    3.     यह/ये पुरस्‍कार प्रशस्ति पत्र और फलक के रूप में होगा/होंगे और राष्‍ट्रीय मतदाता दिवस (25 जनवरी, 2020) के समारोह में दिए जाएंगे।
     मानदंड
     निर्णायक-मंडल का आकलन निम्‍नलिखित मानदंडों पर आधारित होगा:
    मतदाता जागरूकता अभियान की गुणवत्ता कवरेज/मात्रा का विस्तार जनता पर प्रभाव का प्रमाण कोई अन्‍य संगत कारक  प्रविष्टि की शर्तें
     
    प्रविष्टियां संगत अवधि के दौरान अवश्‍य प्रकाशित या प्रसारित/टेली-प्रसारित हुई होनी चाहिए।
     
    प्रिंट प्रविष्टियों में निम्‍नलिखित अवश्‍य शामिल होना चाहिए:-
     1.   संगत अवधि के दौरान निष्पादित कार्य का सार जिसमें निम्‍नलिखित शामिल होना चाहिए:-
                  i.      न्‍यूज आइटम/आलेखों की संख्‍या
                 ii.      वर्ग सेंटीमीटर में कुल प्रिंट क्षेत्रफल
    2.   समाचार पत्र/आलेखों की पीडीएफ सॉफ्ट प्रति या संगत वेब पते का लिंक या एक पूर्ण आकार की फोटोकॉपी/प्रिंट प्रति;
    3.   कोई अन्‍य कार्यकलाप जैसे जनता से प्रत्‍यक्ष जुड़ाव कायम करना इत्‍यादि का विवरण।
    4.   कोई अन्‍य सूचना
     टेलीविज़न (इलेक्‍ट्रॉनिक) एवं रेडियो (इलेक्‍ट्रॉनिक) प्रसारण की प्रविष्टियों में निम्‍नलिखित अवश्‍य शामिल होना चाहिए:
    1.        संगत अवधि के दौरान निष्पादित अभियान/कार्य पर एक संक्षिप्‍त विवरण जिसमें निम्‍नलिखित अवश्य शामिल होने चाहिए
        i.      प्रसारण/टेली-प्रसारण की समयावधि एवं बारम्बारता के साथ सामग्री (सीडी या डीवीडी या पेन ड्राइव में) और उक्‍त कालावधि के दौरान प्रत्‍येक स्‍पॉट के ऐसे प्रसारण का कुल समय
        ii.      सभी स्‍पॉट/समाचार हेतु कुल प्रसारण समय का योग
        iii.      समयावधि, टेली-प्रसारण/प्रसारण की तारीख एवं समय तथा बारम्बारता के साथ सीडी या डीवीडी या पेन ड्राइव या अन्‍य डिजीटल मीडिया में मतदाता जागरूकता पर न्‍यूज़ फीचर्स या प्रोग्राम
    2.        कोई अन्‍य कार्यकलाप जैसे जनता से प्रत्‍यक्ष जुड़ाव कायम करना
    3.        कोई अन्‍य सूचना
     
    ऑनलाइन (इंटरनेट)/सोशल मीडिया की प्रविष्टियों में निम्‍नलिखित अवश्‍य शामिल होना चाहिए:
     1    संगत अवधि के दौरान निष्पादित कार्य का सार जिसमें पोस्‍ट/ब्‍लॉग/अभियानों/टवीट्/आलेख इत्‍यादि की संख्‍या शामिल होनी चाहिए।
     2.     संबंधित आलेखों की पीडीएफ सॉफ्ट कॉपी या संगत वेब पता का लिंक
    3.     कोई अन्‍य कार्यकलाप जैसे जनता से प्रत्‍यक्ष जुड़ाव कायम करना
    4.     ऑनलाइन गतिविधि का प्रभाव (विवरण)
    5.     कोई अन्‍य सूचना
    महत्‍वपूर्ण
         I.      अंग्रेजी/हिंदी से इतर भाषा में प्रस्‍तुत प्रविष्टियों के लिए साथ में अंग्रेजी अनुवाद अपेक्षित होगा।   
       II.      प्रसारण सामग्री प्रस्‍तुत करने वाले प्रवेशकों को इस बात से अवगत होना चाहिए कि निर्णायक मंडल फीचर्स/प्रोग्राम के केवल प्रथम दस मिनटों का उपयोग कर सकता है।
      III.      आयोग का निर्णय अंतिम होगा और इस संबंध में कोई भी पत्र व्‍यवहार नहीं किया जाएगा। आयोग इस संबंध में सभी प्रकार के अधिकार सुरक्षित रखता है।
     IV.      प्रविष्टियों में मीडिया हाउस का नाम, पता, टेलीफोन एवं फैक्‍स नम्‍बर तथा ई-मेल होना चाहिए।
      V.     नियत तिथि: प्रविष्टियाँ निम्‍नलिखित पते पर 31 अक्‍तूबर, 2019 से पहले पहुँच जानी चाहिए:
     
    श्री पवन दीवान, अवर सचिव (संचार)
    भारत निर्वाचन आयोग, निर्वाचन सदन,
    अशोक रोड, नई दिल्‍ली 110001
    ई-मेल: media[.]election.eci[at]gmail.com, diwaneci[at]yahoo.co.in
    दूरभाष नं.: 011-23052133

    72 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  5. विभिन्न राज्यों / संघ शासित क्षेत्रों के संसदीय एवं विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में आकस्मिक रिक्ति को भरने हेतु उप-निर्वाचन, 2019- सवेतन अवकाश दिया जाना, मदिरा इत्‍यादि की बिक्री पर प्रतिबंध - तत्‍संबंधी। 

    विभिन्न राज्यों / संघ शासित क्षेत्रों के संसदीय एवं विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में आकस्मिक रिक्ति को भरने हेतु उप-निर्वाचन, 2019- सवेतन अवकाश दिया जाना- तत्‍संबंधी। 
    विभिन्न राज्यों / संघ शासित क्षेत्रों के संसदीय एवं विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में आकस्मिक रिक्ति को भरने हेतु उप-निर्वाचन, 2019- मदिरा इत्‍यादि की बिक्री पर प्रतिबंध - तत्‍संबंधी। 
     

    24 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  6. हरियाणा और महाराष्‍ट्र की विधान सभाओं के साधारण निर्वाचन 2019 – मतगणना,मदिरा इत्‍यादि की बिक्री पर प्रतिबंध, सवेतन अवकाश दिया जाना– तत्‍संबंधी।

    हरियाणा और महाराष्‍ट्र की विधान सभाओं के साधारण निर्वाचन 2019 – मतगणना – तत्‍संबंधी। मदिरा इत्‍यादि की बिक्री पर प्रतिबंध - तत्‍संबंधी।   सवेतन अवकाश दिया जाना-तत्संिबंधी  

    55 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  7. लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम, 1951 की धारा 11 के अंतर्गत श्री प्रेम सिंह तमांग के आवेदन के संबंध में आयोग का दिनांक 29.09.2019 का आदेश

    लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम, 1951 की धारा 11 के अंतर्गत श्री प्रेम सिंह तमांग के आवेदन के संबंध में आयोग का दिनांक 29.09.2019 का आदेश

    67 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  8. कर्नाटक राज्‍य के 15 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए उप-निर्वाचन हेतु संशोधित अनुसूची-तत्‍संबंधी

    कर्नाटक राज्‍य के 15 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए उप-निर्वाचन हेतु संशोधित अनुसूची-तत्‍संबंधी

    11 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  9. फ़ाइल सबमिट की गई

  10. फ़ाइल सबमिट की गई

  11. आदर्श आचार संहिता लागू करना – उप निर्वाचन (गुजरात)

    Bye-election to fill casual vacancies in the state Legislative Assembly of Gujarat - instructions on enforcement of Model code of conduct-
    regarding.

    20 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  12. फ़ाइल सबमिट की गई

  13. फ़ाइल सबमिट की गई

  14. फ़ाइल सबमिट की गई

  15. फ़ाइल सबमिट की गई

  16. आदर्श आचार संहिता लागू करना

    Application of Model Code of Conduct - General Elections to Legislative Assemblies of Haryana and Maharashtra - regarding

    36 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  17. अर्हक तिथि के रूप में दिनांक 1 जनवरी 2019 के संदर्भ में सेवा मतदाताओं से संबंधित निर्वाचक नामावलियों के अंतिम भाग का दूसरा विशेष सार पुनरीक्षण-तत्‍संबंधी।

    सं. 24/2019-ईआरएस (खंड-II)  
    दिनांक :30 अगस्‍त,2019
     
    सेवा में,
    1.   संयुक्‍त सचिव (स्‍था./पीजी) एवं सीवीओ 
    रक्षा मंत्रालय, साउथ ब्‍लाक, नई दिल्‍ली ।
    2.   संयुक्‍त सचिव, भारत सरकार
    गृह मंत्रालय, नार्थ ब्‍लाक, नई दिल्‍ली
    3.   संयुक्‍त सचिव (प्रशासन)
    विदेश मंत्रालय, साउथ ब्‍लाक, नई दिल्‍ली – 110011
    4.   निदेशक
    सीमा सड़क महानिदेशालय, सीमा सड़क भवन, रिंग रोड, दिल्‍ली छावनी, नई दिल्‍ली – 110010
    5.   मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी
    झारखंड, रांची।
     
    विषय: - अर्हक तिथि के रूप में दिनांक 1 जनवरी 2019 के संदर्भ में सेवा मतदाताओं से संबंधित निर्वाचक नामावलियों के अंतिम भाग का दूसरा विशेष सार पुनरीक्षण-तत्‍संबंधी।  
    महोदय/महोदया,
          मुझे यह कहने का निदेश हुआ है कि झारखंड की विधान सभा के आसन्‍न साधारण निर्वाचनों को ध्‍यान में रखते हुए और निर्वाचक नामावली के अंतिम भाग में गैर-नामांकित पात्र सेवा कार्मिकों का अधिकतम रजिस्‍ट्रेशन करने, जिससे वे नामांकित होने के पश्‍चात आसन्‍न साधारण निर्वाचन में अपने मताधिकार का प्रयोग कर सके, के लिए आयोग ने अर्हक तिथि के रूप में 01 जनवरी, 2019 के संदर्भ में निर्वाचक नामावलियों के अंतिम भाग का दूसरा विशेष सार-पुनरीक्षण नीचे दी गई सूची के अनुसार आयोजित करवाने का निदेश दिया है:-
         
    झारखंड राज्‍य में निर्वाचक नामावली, 2019 के अंतिम भाग के दूसरे विशेष सार पुनरीक्षण की अनुसूची
    क्रम सं.
    दूसरे विशेष सार पुनरीक्षण के चरण
    दिनांक/अवधि
      निर्वाचक नामावलियों के अंतिम भागों का प्रारूप प्रकाशन
    (मूल नामावली अर्थात् अंतिम भाग के हाल ही में समाप्‍त हुए  विशेष सार पुनरीक्षण में अर्हक तिथि के रूप में 01.01.2019 के संदर्भ में अंतिम रूप से यथाप्रकाशित और निरन्‍तर अदयतन अवधि के एक अथवा दो अनुपूरक, जैसा भी मामला हो)
    02.09.2019(सोमवार) को
      संबंधित रिकॉर्ड अधिकारियों/कमांडिग अधिकारियों/प्राधिकारियों द्वारा फार्म प्राप्‍त करने की अवधि
    -फार्मों का सत्‍यापन एवं स्‍कैन करना।  
    -एक्‍सएमएल फाइलों की तैयारी,
    -संबंधित रिकॉर्ड अधिकारियों/कमांडिंग अधिकारियों/प्राधिकारियों द्वारा हस्‍ता‍क्षरित एवं सत्‍यापित करने के साथ-साथ एक्‍सएमएल फाइलों को अपलोड करना।
    02.09.2019(सोमवार) से 17.09.2019 (मंगलवार) तक
      निर्वाचक रजिस्‍ट्रीकरण अधिकारियों द्वारा एक्‍सएमएल फाइलों सहित हस्‍ताक्षरित एवं सत्‍यापित फार्मों की प्रक्रिया एवं निपटान
    -संबंधित निर्वाचक रजिस्‍ट्रीकरण अधिकारियों द्वारा अपूर्ण फार्मों/एक्‍सएमएल फाइलों को लौटाना।
    27.09.2019 (शुक्रवार) तक
      संबंधित रिकॉर्ड अधिकारियों/कमांडिंग अधिकारियों/प्राधिकारियों द्वारा सही फार्मों/एक्‍सएमएल फाइलों का पुन: प्रस्‍तुतीकरण
    -ईआरओ द्वारा अंतिम आदेश।
    04.10.2019 (शुक्रवार) तक
      निर्वाचक नामावलियों के अंतिम भागों का अंतिम प्रकाशन
    12.10.2019 (शनिवार) तक
     

    31 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  18. अर्हक तारीख के रूप में दिनांक 01.01.2019 के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों का दूसरा विशेष सार पुनरीक्षण-कार्यक्रम-तत्‍संबंधी।

    सं.23/2019-ईआरएस-II
     दिनांक: 27 अगस्‍त, 2019
     
    सेवा में
    मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी,
    झारखंड, रांची।
     
    विषय: अर्हक तारीख के रूप में दिनांक 01.01.2019 के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों का दूसरा  विशेष सार पुनरीक्षण-कार्यक्रम-तत्‍संबंधी।
     महोदय,      
          मुझे यह कहने का निदेश हुआ है कि आयोग ने सभी पहलुओं, विशेषतया राज्‍य में विधान सभा के आसन्‍न साधारण निर्वाचन को ध्‍यान में रखते हुए और अपंजीकृत पात्र मतदाताओं को अपना नाम निर्वाचक नामावली में पंजीकृत करवाने का एक और अवसर उपलब्‍ध करवाने, ताकि वे निर्वाचन में मतदान से वंचित न हों, की दृष्टि से तथा साथ ही निर्वाचक नामावली को त्रुटिरहित बनाने के लिए यह निदेश दिया है कि झारखंड राज्‍य में अर्हक तारीख के रूप में 01.01.2019 के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों का दूसरा विशेष सार पुनरीक्षण झारखंड के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी द्वारा दिनांक 13.08.2019 के पत्र सं. 02/नि.म.सू.01-15/2019/5558 के तहत यथा प्रस्‍तावित नीचे दी गई अनुसूची के अनुसार आयोजित किया जाए:
    क्रम सं.
    पुनरीक्षण कार्यकलाप
    तारीख / अवधि
    1.
    प्रारूप निर्वाचक नामावली का प्रकाशन
    02.09.2019 (सोमवार) को  
    2.
    दावे एवं आपत्तियां दाखिल करने की अवधि
    02.09.2019 (सोमवार) से
    17.09.2019 (मंगलवार) तक  
    3.
    विशेष प्रचार अभियान की तिथियां
    08.09.2019 (रविवार) और
    15.09.2019 (रविवार)
    4.
    दावों और आपत्तियों का निपटान करना
    27.09.2019 ( शुक्रवार) तक
    5.
    उप डीईओ/डीईओ/नामावली प्रेक्षक/ सीईओ द्वारा सुपर चेकिंग डाटाबेस का अद्यतन और अनुपूरकों को मुद्रित करना 04.10.2019 (शुक्रवार) तक
    6.
    निर्वाचक नामावलियों को अंतिम रूप से प्रकाशित करना
    12.10.2019 (शनिवार) को  
    2. आयोग ने निर्णय लिया है कि यह पुनरीक्षण अर्हक तारीख के रूप में 01.01.2019 के संदर्भ में विशेष सार पुनरीक्षण होगा और अनुवर्ती सुसंगत निदेशों सहित निर्वाचक नामावली संबंधी मैनुअल, 2016 में निहित उपबंधों के अनुसार उपर्युक्‍त अनुसूची के अनुरुप किया जाएगा। .............
     

    24 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  19. फ़ाइल सबमिट की गई

  20. संसद सदस्‍य/विधान सभा सदस्‍य स्‍थानीय क्षेत्र विकास स्‍कीम के अंतर्गत निधियां जारी करने से संबंधित अनुदेश

    सं.437/6/1/ईसीआई/अनुदेश/प्रकार्या./एमसीसी/2019                               दिनांक: 25 अगस्‍त, 2019
     
    सेवा में,
     
    1.      मत्रिमंडल सचिव,
    भारत सरकार,
    राष्‍ट्रपति भवन,
    नई दिल्‍ली।
    2.      सचिव, भारत सरकार,
    कार्यक्रम कार्यान्‍वयन विभाग,
    सरदार पटेल भवन,
    नई दिल्‍ली।
    3.  निम्‍नलिखित सरकारों के मुख्‍य सचिव:-
                 क) छत्‍तीसगढ़, रायपुर
                 ख) केरल, तिरूवनंतपुरम
                 ग) त्रिपुरा, अगरतला  
                 घ) उत्‍तर प्रदेश, लखनऊ
    4. मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी:-
                 क) छत्‍तीसगढ़, रायपुर
                 ख) केरल, तिरूवनंतपुरम
                 ग) त्रिपुरा, अगरतला 
                 घ) उत्‍तर प्रदेश, लखनऊ
     
    विषय:       उप निर्वाचन – सांसदों/विधायकों के स्‍थानीय क्षेत्र विकास योजना के अधीन निधियाँ जारी करना।
    महोदय,
    मुझे, आयोग के दिनांक 25 अगस्‍त, 2019 के प्रेस नोट (आयोग की वेबसाइट  http://eci.gov.in पर उपलब्‍ध) जिसमें छत्‍तीसगढ़, केरल, त्रिपुरा, और उत्‍तर प्रदेश की  राज्‍य विधान सभाओं में आकस्मिक रिक्तियों को भरने हेतु उप निर्वाचनों हेतु अनुसूची की घोषणा की गई है, को संदर्भित करने और यह कहने का निदेश हुआ है कि उप निर्वाचनों की इस घोषणा के साथ ही राजनैतिक दलों और अभ्‍यर्थियों के मार्ग-निर्देशन हेतु आर्दश आचार संहिता के प्रावधान तत्‍काल प्रभाव से लागू हो गए हैं।
    2.     सांसद स्‍थानीय क्षेत्र विकास योजना के अधीन निधियों को जारी करने संबंधी मामलों पर कार्रवाई आयोग के दिनांक 29 जून, 2017 के पत्र संख्‍या 437/6/अनुदेश/2016-सीसीएस के अनुसरण में की जाएगी जो कि उप-निर्वाचन के दौरान आदर्श आचार संहिता लागू करने के संबंध में है और अन्‍य बातों के साथ-साथ यह उपबंधित करता है कि:-      
    (क)  संसद सदस्‍य (राज्‍य सभा सदस्‍यों सहित) स्‍थानीय क्षेत्र विकास योजना निधि के अधीन जिले (जिलों) के किसी भी भाग में जहां पर वह विधान सभा/संसदीय निर्वाचन क्षेत्र स्थित है, जहाँ निर्वाचन चल रहे हैं, में निर्वाचन प्रक्रिया के समाप्‍त होने तक कोई भी नई निधि जारी नहीं की जाएगी। यदि संबंधित निर्वाचन क्षेत्र राज्‍य की राजधानी/महानगरों/नगर निगमों के अधीन आता है तो उपरोक्‍त अनुदेश केवल संबंधित निर्वाचन क्षेत्र में ही लागू होंगे। इसी प्रकार से, विधान सभा सदस्‍य/विधान परिषद सदस्‍य स्‍थानीय क्षेत्र विकास योजना निधि के अंतर्गत, यदि कोई ऐसी योजना प्रचालन में है तो निर्वाचन प्रक्रिया के समाप्‍त होने तक कोई भी नई निधि जारी नहीं की जाएंगी।
    (ख)  इस पत्र के जारी होने से पूर्व, जिन कार्यों के संबंध में कार्य आदेश पहले ही जारी किए जा चुके हैं परंतु वास्‍तव में उन पर कार्य शुरू नहीं किया गया है, ऐसा कोई कार्य शुरू नहीं किया जाएगा। ये कार्य केवल निर्वाचन प्रक्रिया की समाप्ति पर ही शुरू किए जा सकते हैं। हालांकि, यदि कोई कार्य वास्‍तव में शुरू कर दिया गया है तो उसे जारी रखा जा सकता है।
    (ग)  संबंधित अधिकारियों की पूर्ण संतुष्टि के अध्‍यधीन पूरे किए गए कार्य(र्यों) के लिए भुगतान करने पर कोई प्रतिबन्‍ध नहीं होगा।
    (घ)  जहां योजनाओं को स्‍वीकृति दी जा चुकी है एवं निधियाँ उपलब्‍ध करवा दी गई हों या जारी कर दी गई हों और जहां सामग्री प्राप्‍त कर ली गई हो और उसे कार्यस्‍थल पर पहुंचा दिया गया हो तो ऐसी योजनाओं को कार्यक्रम के अनुसार निष्‍पादित किया जा सकता है। 

    38 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  21. आदर्श आचार संहिता का प्रवर्तन

    सं.437/6/1/ईसीआई/अनुदेश/प्रकार्या./एमसीसी/2019                                         दिनांक: 25 अगस्त,  2019
     
    सेवा में
    1.      मत्रिमंडल सचिव,
    भारत सरकार, राष्‍ट्रपति भवन, नई दिल्‍ली। 
    2.      मुख्‍य सचिव,
    क)     छत्तीसगढ़, रायपुर;
    ख)    केरल, तिरूवन्नतपुरम;
    ग)     त्रिपुरा, अगरतला;
    घ)     उत्तर प्रदेश, लखनऊ; 
    3.      मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी,
    क)     छत्तीसगढ़, रायपुर;
    ख)    केरल, तिरूवन्नतपुरम;
    ग)     त्रिपुरा, अगरतला;
    घ)     उत्तर प्रदेश, लखनऊ;
     
    विषय:  छत्तीसगढ़, केरल, त्रिपुरा एवं उत्तर प्रदेश राज्य विधान सभाओं में आकस्मिक रिक्तियों को भरने के लिए उप निर्वाचन–आदर्श आचार संहिता के प्रवर्तन पर अनुदेश–तत्‍संबंधी।
    महोदय,
           मुझे यह कहने का निदेश हुआ है कि दिनांक 25 अगस्त,  2019 के प्रेस नोट संख्‍या ईसीआई/प्रेनो/77/2019 के द्वारा आयोग ने छत्तीसगढ़, केरल, त्रिपुरा एवं उत्तर प्रदेश राज्‍य में निम्नलिखित विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों से आकस्मिक रिक्तियों को भरने के लिए उप निर्वाचन की अनुसूची की घोषणा की है-      
    राज्य का नाम
    निर्वाचन क्षेत्र का नाम एवं संख्या
    छत्तीसगढ़
    88-दन्तेवाड़ा (अ.ज.जा.) विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र
    केरल
    93-पाला विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र
    त्रिपुरा
    14-बधारघाट (अ.जा.) विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र
    उत्तर प्रदेश
    228-हमीरपुर विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र
     2.      जिस संसदीय/विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र में उप निर्वाचन आयोजित होना है और वह निर्वाचन क्षेत्र जिस जिले (लों) में अवस्थित है, आदर्श आचार संहिता के प्रावधान आयोग के दिनांक 29 जून, 2017 के पत्र सं. 437/6/अनुदेश/2016-सीसीएस तथा 18 जनवरी, 2018 के पत्र सं. 437/6/विविध/ईसीआई/पत्र/प्रकार्या./एमसीसी/2017 (प्रतिलिपियां संलग्‍न) के आंशिक संशोधन की शर्तों के अध्‍यधीन उन क्षेत्रों में तत्‍काल प्रभाव से लागू हो गए हैं।
     3.      इसे सभी संबंधितों के ध्‍यान में लाया जाए।
     

    69 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  22. दिनांक 01.01.2020 की अर्हक तिथि के संदर्भ में निर्वाचक नामावलियों का विशेष सार पुनरीक्षण–निर्वाचक सत्‍यापन कार्यक्रम (ईवीपी) के विस्‍तृत दिशानिर्देशों के संबंध में।

    दिनांक 01.01.2020 की अर्हक तिथि के संदर्भ में निर्वाचक नामावलियों का विशेष सार पुनरीक्षण–निर्वाचक सत्‍यापन कार्यक्रम (ईवीपी) के विस्‍तृत दिशानिर्देशों के संबंध में।

    90 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  23. दिनांक 01.01.2020 की अर्हक तिथि के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों का विशेष सार पुनरीक्षण–निर्वाचक सत्‍यापन कार्यक्रम (ईवीपी) के विस्‍तृत दिशा-निर्देशों के संबंध में।

    दिनांक 01.01.2020 की अर्हक तिथि के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों का विशेष सार पुनरीक्षण–निर्वाचक सत्‍यापन कार्यक्रम (ईवीपी) के विस्‍तृत दिशा-निर्देशों के संबंध में।

    60 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  24. श्री करन अवतार सिंह, मुख्य सचिव, पंजाब सरकार को आयोग का पत्र

    सं. 76/पंजाब-लोकसभा/04/2019/एन एस-1                  दिनांक: 23 जुलाई, 2019
     
    जिला निर्वाचन अधिकारी और
    उपायुक्त, जालंधर
    पंजाब
    विषय: लोकसभा साधारण निर्वाचन,2019- निवार्चन व्ययों का लेखा- 4-जालंधर संसदीय निवार्चन क्षेत्र- तत्संबंधी
     
    महोदय,
    मुझे आपकी रिर्पोट सं. निर्वाचन-2019/आर-7142 दिनांक 08.07.2019 के साथ निर्वाचन संचालन नियम,1961 के नियम 89 के उप-नियम (1) के अधीन आपके द्वारा प्रस्तुत रिर्पोट को संदर्भित करने का निर्देश हुआ है और यह कहना है कि निर्वाचन संचालन नियम,1961 के नियम 89 के उप-नियम(4) के अंतर्गत उक्त रिर्पोट पर विचार करने के बाद आयोग ने निर्णय लिया है कि श्री वाल्मिकाचार्य नित्य आनंद अपने निवार्चन व्यय के लेखा प्रस्तुत करने में विफल रहे हैं।
    2. तदनुसार, आयोग ने उपर्युक्त-उल्लिखित अभ्यर्थी को पूर्वोक्त नियम 89 के उप-नियम (5) के अंतर्गत कारण बताओ नोटिस जारी किया है कि उपर्युक्त उल्लिखित असफलता के लिए उस अभ्यर्थी को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम,1951 की धारा 10 क के अधीन क्यों न निरर्हित कर दिया जाए
    3.1 पूर्वोक्त नोटिस, एतद्वारा इस अनुरोध के साथ भेजा जा रहा है कि इसे विशेष संवाहक अथवा प्रोसेस सर्वर के माध्यम से संबंधित अभ्यर्थी को तत्काल प्राप्त करा दिया जाए। नोटिस दे देने के बाद अभ्यर्थी से पावती भी प्राप्त की जाए।
    3.2 यदि अभ्यर्थी नोटिस प्राप्त करने के लिए स्वयं उपस्थित नहीं हो तो नोटिस में दिए गए पते पर उपस्थित अभ्यर्थी के परिवार के किसी वयस्क सदस्य से इसकी यथोचित पावती लेकर उसे दिया जा सकता है। पावती पर प्राप्तकर्ता का पूरा नाम, नोटिस देने की तारीख और अभ्यर्थी के साथ उसके संबंध को अवश्य लिखा जाना चाहिए।
    3.3 यदि नोटिस में दिए गए पते पर विशेष्ज्ञ संवाहक अथवा प्रोसेस सर्वर के बार-बार कम से कम तीन बार जाने पर भी न तो अभ्यर्थी मिलता है और न ही उसके परिवार का कोई वयस्क सदस्य मिलता है तो उसी परिवार अथवा आसपास में रहने वाले कम से कम दो जिम्मेवार व्यक्तियों की उपस्थिति में अभ्यर्थी के बाहरी द्वार अथवा सुस्पष्ट और उपयुक्त स्थान पर नोटिस चिपका दिया जाए। विशेष संवाहक/प्रोसेस सर्वर की रिर्पोट में उन व्यक्तियों को पूरा नाम और पते, जिनकी उपस्थिति में नोटिस चिपकाया गया है, का स्पष्ट उल्लेख किया जाना चाहिए और उन व्यक्तियों के हस्ताक्षर/अंगूठे का निशान भी लिया जाना चाहिए।
    4. अभ्यर्थी को नोटिस देने के बाद अभ्यर्थी से प्राप्त पावती अथवा विशेष संवाहक/प्रोसेस सर्वर की रिर्पोट सहित नोटिस देने की तारीख दर्शाते हुए एक समेकित रिर्पोट आयोग को तत्काल भेजी जानी चाहिए।
    5. संदर्भित नोटिस में चूक करने वाले अभ्यर्थी को कहा जा रहा है कि वे इस नोटिस की प्राप्ति से 20 दिन के भीतर अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत करें अथवा उनके द्वारा पहले से दायर किए गए लेखा में त्रुटियों को दूर करें।
    20 दिन की पूर्वोक्त अवधि समाप्त होते ही उक्त नियम 89 के उप-नियम (7) के अंतर्गत परिकल्पित पांच दिन के भीतर आप के द्वारा आयोग को एक अनुपूरक रिर्पोट भेजी जाएगी कि संबंधित अभ्यर्थी द्वारा अपेक्षित कार्रवाई की जा चुकी है अथवा नहीं।
    6. कृप्या इस पत्र की पावती दें।
     
    भवदीय,
    (अजय कुमार वर्मा)
    अवर सचिव
    सं. 76/पंजाब-लोकसभा/04/2019
    प्रति: मुख्य निर्वाचन अधिकारी, पंजाब, चण्डीगढ

    14 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  25. अर्हक तिथि के रूप में दिनांक 01.01.2020 से फोटो निर्वाचक नामावलियों का पुनरीक्षण – कार्यक्रम – तत्‍संबंधी

    सं.23/2019-ईआरएस (खंड-III)                                      दिनांक: 25 जुलाई, 2019
     
    सेवा में
     
          सभी राज्‍यों और संघ राज्‍य क्षेत्रों के मुख्‍य निर्वाचन अधिकारी
    (हरियाणा, झारखंड और महाराष्‍ट्र को छोड़कर)  
     
    विषय: अर्हक तारीख के रूप में 01.01.2020 के संदर्भ में फोटो निर्वाचक नामावलियों का विशेष संक्षिप्‍त पुनरीक्षण-कार्यक्रम-तत्‍संबंधी।
     
    महोदय/महोदया
    मुझे यह कहने का निर्देश हुआ है कि मौजूदा नीति के अनुसार, अर्हक तारीख के रूप में आगामी वर्ष की एक जनवरी के संदर्भ में निर्वाचन नामावलियों का पुनरीक्षण सभी राज्यों/संघ शासित क्षेत्रों में प्रत्येक वर्ष की उत्‍तरवर्ती अवधि (सामान्‍य रूप से वर्ष की अंतिम तिमाही में) में किया जाता है ताकि निर्वाचक नामावलियों का अंतिम प्रकाशन अनुवर्ती वर्ष के जनवरी माह के प्रथम सप्ताह में किया जा सके। पुनरीक्षण कार्यक्रम इस ढंग से तैयार किया जाता है कि निर्वाचक नामावलियां राष्ट्रीय मतदाता दिवस (प्रतिवर्ष की 25 जनवरी) से काफी पहले अंतिम रूप से प्रकाशित कर दी जाएं ताकि नव निर्वाचकों, विशेष तौर पर युवा मतदाताओं (18-19 वर्ष) के लिए तैयार किए गए एपिक राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर उन्हें औपचारिक ढंग से वितरित किए जा सकें। आयोग ने सभी पक्षों पर विचार करते हुए सभी राज्यों/संघ शासित क्षेत्रों (हरियाणा, झारखंड और महाराष्ट्र को छोड़कर) में अर्हक तारीख के रूप में दिनांक 01-01-2020 से निम्नलिखित तालिका के अनुसार गहन प्रकृति के फोटो निर्वाचक नामावलियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण आरंभ करने का निर्देश दिया है:-
    क्र. सं.
    कार्यकलाप
    अवधि
    1
    पूर्व पुनरीक्षण कार्यकलाप:
    अभियान चलाकर निर्वाचक नामावली की स्थिति में सुधार करना:-
    (क)  डी एस ई, तर्क संगत त्रुटियों का निराकरण, निर्वाचक की फोटो गुणवता की जांच
    (ख)  स्वीप की सहायता से अभियान के रूप में निर्वाचक सत्यापन कार्यक्रम (ई वी पी)। कार्यक्रम के दौरान नागरिकों को आगे आने और  निम्नलिखित दस्तावेजों में से किसी एक की प्रति देते हुए इससे संबंधित मौजूदा निर्वाचकों के विवरणों को प्रमाणित करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सकता है:
    1.    भारतीय पासपोर्ट
    2.    ड्राइविंग लाइसेंस, या
    3.    आधार कार्ड
    4.    राशन कार्ड
    5.    आयोग द्वारा यथानुमोदित कोई अन्य दस्तावेज
    (ग)   नागरिक सामान्य सेवा केन्द्रों (सी एस सी) में जाकर या बी एल ओ के माध्यम से ई आर ओ को भरे हुए फार्मों की हार्ड कॉपी प्रस्तुत करके ''मतदाता हेल्पलाइन'' मोबाइल ऐप्प, एनवीएसपी पोर्टल के माध्यम से अपने निर्वाचक विवरणों का सत्यापन करेंगे।
    (घ)   गैर नामांकित नागरिकों/ मृतकों/ स्थानांतरित निर्वाचकों आदि की सूचना/ विवरण आस-पास के व्‍यक्तियों के माध्यम से एकत्रित किया जाएगा। नागरिक उपर्युक्त स्रोतों के माध्यम से विवरण देंगे।
    01.08.2019 (बृहस्पतिवार) से 31.08.2019 (शनिवार) तक
    2
    बी एल ओ द्वारा घर-घर जाकर सत्यापन करना:-
    (क)  बीएलओ के द्वारा घर-घर जाकर सत्यापन किया जाएगा, जिसमें बीएलओ आस-पास के व्‍यक्तियों से एकत्रित सूचना/ विवरणों और इनकी सत्‍यता का सत्‍यापन करेगा।
    (ख)  बीएलओ गैर नामांकित/ मृतक/ स्थानांतरित निर्वाचकों की सूचना/विवरण भी एकत्रित करेगा
    01.09.2019 (रविवार) से 30.09.2019 (सोमवार) तक
    3
    अनुभाग/भागों को पुन: तैयार करना ·        निवास स्‍थान के पते का मानकीकरण
    ·        मतदान केंद्रों की जी आई एस स्थिति का पता लगाना
    ·        वैकल्पिक मतदान केंद्र की अवस्थितियों का पता लगाना और ए एम एफ का पुष्टीकरण।
    ·        बी एल ओ द्वारा डाटा/सूचना का एकत्रीकरण किया जाएगा और ए ई आर ओ/ईआरओ/डी ई ओ तथा नामावली प्रेक्षकों द्वारा सत्यापन किया जाएगा। मतदान केंद्रों के अनुभाग/भाग की सीमाओं की स्थिति की प्रस्तावित पुनर्रचना को अंतिम रूप देना और इसके बाद आयोग से मतदान केन्द्रों की सूची का अनुमोदन प्राप्त करना
    ·        आयु-समूह वार अनुमानित जनसंख्या का अद्तनीकरण
    16.09.2019 (सोमवार) से 15.10.2019 (मंगलवार) तक
    4
    पुनरीक्षण कार्यकलाप
    समेकित प्रारूप निर्वाचक नामावली का प्रकाशन
    15.10.2019 (मंगलवार)
    5
    दावों/ आपत्तियों को दायर करने की अवधि
    15.10.2019 (मंगलवार) से 30.11.2019 (शनिवार) तक
    6
    विशेष अभियान की तारीखें
    02.11.2019 (शनिवार) और
    03.11.2019 (रविवार)
    09.11.2019 (शनिवार) और
    10.11.2019 (रविवार)
    7
    दावों एवं आपत्तियों का निपटान
    15.12.2019 (रविवार) तक
    8
    दुरूस्‍तता संबंधी मानदंडों की जांच करना और अंतिम प्रकाशन के लिए आयोग की अनुमति लेना
    25.12.2019 (बुधवार) तक
    9
    डाटाबेस का अद्यतनीकरण और अनुपूरकों का मुद्रण
    31.12.2019 (मंगलवार) तक
    10
    निर्वाचक नामावली का अंतिम प्रकाशन
    01.01.2020 (बुधवार) से 15.01.2020 (बुधवार) तक, आयोग द्वारा जैसा निर्णय लिया जाए।
     

    38 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

ईसीआई मुख्य वेबसाइट


eci-logo.pngभारत निर्वाचन आयोग एक स्‍वायत्‍त संवैधानिक प्राधिकरण है जो भारत में निर्वाचन प्रक्रियाओं के संचालन के लिए उत्‍तरदायी है। यह निकाय भारत में लोक सभा, राज्‍य सभा, राज्‍य विधान सभाओं और देश में राष्‍ट्रपति एवं उप-राष्‍ट्रपति के पदों के लिए निर्वाचनों का संचालन करता है। निर्वाचन आयोग संविधान के अनुच्‍छेद 324 और बाद में अधिनियमित लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम के प्राधिकार के तहत कार्य करता है। 

मतदाता हेल्पलाइन ऍप

हमारा मोबाइल ऐप ‘मतदाता हेल्‍पलाइन’ प्‍ले स्‍टोर एवं ऐप स्टोर से डाउनलोड करें। ‘मतदाता हेल्‍पलाइन’ ऐप आपको निर्वाचक नामावली में अपना नाम खोजने, ऑनलाइन प्ररूप भरने, निर्वाचनों के बारे में जानने, और सबसे महत्‍वपूर्ण शिकायत दर्ज करने की आसान सुविधा उपलब्‍ध कराता है। आपकी भारत निर्वाचन आयोग के बारे में हरेक बात तक पहुंच होगी। आप नवीनतम  प्रेस विज्ञप्ति, वर्तमान समाचार, आयोजनों,  गैलरी तथा और भी बहुत कुछ देख सकते हैं। 
आप अपने आवेदन प्ररूप और अपनी शिकायत की वस्‍तु स्थिति के बारे में पता कर सकते हैं। डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें। आवेदन के अंदर दिए गए लिंक से अपना फीडबैक देना न भूलें। 

×
×
  • Create New...