मतदाता हेल्पलाइन ऐप (एंड्राइड के लिए)
अंग्रेज़ी में देखें   |   मुख्य विषयवस्तु में जाएं   |   स्क्रीन रीडर एक्सेस   |   A-   |   A+   |   थीम
Jump to content

प्रेस विज्ञप्तियाँ

Sub Category  

101 files

  1. ECI to host International Webinar on ‘Enhancing electoral participation of Women, Persons with Disabilities (PwDs) & Senior citizen Voters: Sharing Best Practices and New Initiatives’

    No. ECI/PN/98/2021                                                    
    Dated: Nov 25, 2021
    PRESS NOTE
    ECI to host International Webinar on
    ‘Enhancing electoral participation of Women, Persons with Disabilities (PwDs) & Senior citizen Voters: Sharing Best Practices and New Initiatives’

     
    Association of World Election Bodies (A-WEB) is the largest association of Election Management Bodies (EMBs) worldwide with 117 EMBs as Members & 16 Regional Associations/Organizations as Associate Members.   Election Commission of India has been the Chair of A-WEB since September 3, 2019 for a term of three years. To mark the completion of two years of Chairmanship of the A-WEB, Election Commission of India is organizing an International Webinar on 26th November 2021 on the theme ‘Enhancing electoral participation of Women, Persons with Disabilities (PwDs) & Senior citizen Voters: Sharing Best Practices and New Initiatives’. 
    Nearly hundred delegates from 24 countries across the world namely Bangladesh, Bhutan,  Cambodia,   Ethiopia, Fiji, Georgia,   Kazakhstan, Republic of Korea, Liberia,   Malawi,  Mauritius,   Mongolia,   Philippines, Romania, Russia, Sao Tome and Principe, Solomon Islands,   South Africa, Sri Lanka, Suriname,  Taiwan,   Uzbekistan, Yemen and Zambia and 4 international organizations - International IDEA,  International Foundation of Electoral Systems (IFES), Association of World Election Bodies (A-WEB) and European Centre for Elections are going to participate in the Webinar.  
    Nearly 20 diplomats including Ambassador of Uzbekistan & High Commissioners of Fiji, Maldives, Mauritius are also scheduled to attend the Webinar.
    At the Webinar, presentations will be made by participating EMBs and organizations on best practices and initiatives taken by them to enhance electoral participation of Women, Persons with Disabilities (PwDs) & Senior citizen Voters.   Session I will be co-chaired by Hon’ble Chief Election Commissioner of India Shri Sushil Chandra, along with H.E.  Mr. Mohammad Irfan Abdool Rahman, Electoral Commissioner of Mauritius and H.E. Mr. K.M. Nurul Huda, Chief Election Commissioner of Bangladesh. 
    Session II will be co-chaired by Hon’ble Election Commissioner Shri Rajiv Kumar and H.E. Mr. Dasho Ugyen Chewang, Commissioner, Election Commission of Bhutan.   
    Session III will be co-chaired by Hon’ble Election Commissioner Shri Anup Chandra Pandey and H.E. Mr. M.M. Mohamad, Member, Election Commission of Sri Lanka. The Concluding Session will be addressed by Mr.  Peter Wardle, Adviser, Cambridge Conference on Electoral Democracy; Mr.  Peter Erben, Principal Adviser IFES; H.E. Dr. Nomsa Masuku, Commissioner, Electoral Commission of South Africa on behalf of Chairperson, EC South Africa and Vice-Chairperson of A-WEB.
    Three publications will be released at the Webinar:  October 2021 issue of A-WEB India Journal of Elections; October 2021 issue of ‘VoICE International’ Magazine and Publication on ‘Participation of Women, Persons with Disabilities and senior citizen voters in Elections’. Also, an International Video presentation on facilitation and participation of Women, PwDs and senior citizens in elections will be unveiled at the Webinar.
    An India A-WEB Centre has been established at New Delhi subsequent to the decision taken by A-WEB Executive board meeting held at Bengaluru on September 2, 2019.  ECI has provided all the resources for this Centre for world class documentation, research and training for sharing the best practices and capacity building of officials of A-WEB members. This International Webinar will provide a good opportunity to all the participants to exchange ideas and learn from each other’s experience of the best practices and initiatives taken to enhance electoral participation of Women, Persons with Disabilities (PwDs) & Senior citizen Voters. 

    8 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  2. भारत निर्वाचन आयोग द्वारा सभी राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के सम्मेलन का आयोजन

    सं. ईसीआई/पीएन/97/2021
    दिनांकः 22 नवंबर, 2021
     
    प्रेस नोट 
    भारत निर्वाचन आयोग द्वारा सभी राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों के
    मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के सम्मेलन का आयोजन 
          भारत निर्वाचन आयोग द्वारा सभी राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के साथ आज नई दिल्ली में एक सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस सम्मेलन का आयोजन निर्वाचक नामावली, मतदान केंद्रों, प्रगतिरत विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण, आईटी एप्लिकेशन्स, शिकायतों का समय पर निवारण, ईवीएम/वीवीपेट्स, मतदान कर्मियों के लिए प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण, मीडिया और संचार एवं गहन मतदाता आउटरीच कार्यक्रम से संबंधित विभिन्न विषयगत मुद्दों पर चर्चा और समीक्षा करने के लिए किया गया था।
     
          अपने संबोधन में मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री सुशील चंद्रा ने मुख्य निर्वाचन अधिकारियों की दक्षता और दूरदृष्टि के महत्व पर बल दिया क्योंकि मुख्य निर्वाचन अधिकारी राज्यों में आयोग का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्होंने मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से निर्वाचक नामावली की शुचिता, सुनिश्चित न्यूनतम सुविधाएं और समस्त मतदान केंद्रों पर सभी मतदाताओं के लिए बेहतर सुविधाएं सुनिश्चित करने के लिए कहा। उन्होंने उनसे सभी लंबित आवेदन-पत्रों, विशेषकर मतदाता रजिस्ट्रीकरण के आवेदनों का शीघ्र निपटान करने के लिए भी कहा। उन्होंने दोहराया कि वास्तविक बेहतर मतदाता अनुभव सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिएं। उन्होंने आगे कहा कि सभी मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को राजनीतिक दलों की शिकायतों, यदि कोई हों, का निवारण करने के लिए नियमित रूप से वार्तालाप करते रहना चाहिए। 
          मुख्य निर्वाचन आयुक्त, श्री सुशील चंद्रा ने अपने संबोधन के दौरान यह भी कहा कि इस सम्मेलन का उद्देश्य कमियों और चुनौतियों का पता लगाना है ताकि देशभर के सभी राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों में आयोग के आदेशों का समान रूप से कार्यान्वयन सुनिश्चित हो सके। मुख्य निर्वाचन आयुक्त ने निर्वाचन संबंधी कार्यकलापों के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारियों द्वारा की गई नई पहल और सर्वोत्तम पद्धतियों का मीडिया के माध्यम से प्रचार-प्रसार करने पर बल दिया ताकि आउटरीच बढ़ाई जा सके। 
          निर्वाचन आयुक्त, श्री राजीव कुमार ने मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से वार्तालाप करते हुए कहा कि निर्वाचनों का विधिक और विनियमित फ्रेमवर्क अत्यधिक मजबूत है, तथापि आयोग के विभिन्न अनुदेशों का वास्तविक कार्यान्वयन बहुत महत्वपूर्ण होता है। उन्होंने जोर देकर कहा कि मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को प्रगतिशील, अधिक सक्रिय होने की आवश्यकता है और उन्हें एक दूसरे की सर्वोत्तम पद्धतियों से सीखना चाहिए। उन्होंने मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से अनुरोध किया कि वे जिला निर्वाचन अधिकारियों (डीईओ) के साथ समन्वय एवं निगरानी हेतु नियमित रूप से चर्चा करें तथा महत्वपूर्ण फीडबैक प्राप्त करने हेतु फील्ड में जाएं, ताकि आवश्यक कार्यप्रणाली में सुधार किए जा सकें। 
          निर्वाचन आयुक्त, श्री अनूप चंद्र पांडेय ने ब्लॉक लेवल अधिकारियों के प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण पर बल दिया क्योंकि भारत निर्वाचन आयोग के कार्यों की प्रभावशीलता, फील्ड स्तरीय निर्वाचन कार्मिकों के प्रभावशाली कार्यान्वयन पर निर्भर करती है। उन्होंने पूरे वर्ष गैर-निर्वाचन अवधि के दौरान भी आउटरीच के लिए फील्ड में विभिन्न स्टेकहोल्डरों और अधिकारियों की सहभागिता तथा जमीनी स्तर पर स्वीप के कार्यकलापों पर भी जोर दिया। उन्होंने बल देते हुए कहा कि मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि अधिकाधिक आउटरीच हेतु स्थानीय मीडिया के साथ सही सूचनाएं और तथ्य नियमित रूप से साझा किए जाएं। 
          महासचिव, श्री उमेश सिन्हा ने अपने स्वागत भाषण में कहा कि इस सम्मेलन का आयोजन फील्ड स्तरीय कार्य पद्धति को समझने, स्टेकहोल्डरों के साथ समन्वय करने और आयोग के अनुदेशों का कार्यान्वयन करने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्य निर्वाचन अधिकारियों को पूरे वर्ष सक्रिय रहना चाहिए और मूल्यांकन एवं कार्यप्रणाली संबंधी आवश्यक सुधार करने के लिए निर्वाचन अधिकारियों के साथ नियमित रूप से संपर्क करते रहना चाहिए। \
          इस सम्मेलन के दौरान आयोग ने आज "निर्वाचन विधि संबंधी मामलों का सार-संग्रह" (कंपेंडियम ऑफ केसिस ऑन इलेक्शन लॉ) जारी किया। आयोग द्वारा एक काफी टेबल बुक "कंडक्ट ऑफ जनरल इलेक्शन्स टू द असम लेजिस्लेटिव असेम्बली, 2021", और मुख्य निर्वाचन अधिकारी, असम द्वारा तैयार "काल ऑफ ड्यूटी" नामक शार्षक से एक शोर्ट वीडियो भी जारी की गई। इस वीडियो में दूरस्थ और दुर्गम स्थानों पर मतदान केंद्र स्थापित करने में निर्वाचन अधिकारियों के सामने आई विभिन्न चुनौतियों को उजागर किया गया है। इस सम्मेलन में नए मतदाताओं के लिए मणिपुर के मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा तैयार "पावर ऑफ 18" नामक शीर्षक से एक मतदान गान भी जारी किया गया। 
          सम्मेलन में फोटो निर्वाचक नामावली 2022 (एसएसआर 2022) के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के लिए राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों द्वारा किए गए स्वीप संबंधी कार्यकलापों की एक मल्टीमीडिया प्रदर्शनी भी लगाई गई थी। इसमें विभिन्न दृश्य-श्रव्य रचनाएं, प्रिंट विज्ञापन और राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों से प्राप्त एसएसआर 2022 के लिए राज्य ऑइकनों से प्राप्त संदेशों को प्रदर्शित किया गया था। 

          इस सम्मेलन में सभी राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों के मुख्य निर्वाचन अधिकारी, वरिष्ठ उप निर्वाचन आयुक्त, उप निर्वाचन आयुक्त, महानिदेशक एवं आयोग के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण भी उपस्थित थे। जिन राज्यों में निर्वाचन होने हैं, उनके साथ निर्वाचन प्रबंधन से संबंधित विभिन्न मामलों पर विचार-विमर्श करने के लिए कल भारत निर्वाचन आयोग द्वारा अलग से एक दिवसीय समीक्षा बैठक भी निर्धारित है।

    23 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  3. भारत निर्वाचन आयोग ने निर्वाचन प्रबंधन पर पांच अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण मॉड्यूल जारी किए

    सं. ईसीआई/पी एन/96/2021
    दिनांकः 17 नवम्बर, 2021
    प्रेस नोट
    भारत निर्वाचन आयोग ने निर्वाचन प्रबंधन पर पांच अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण मॉड्यूल जारी किए 
    आईएफईएस के सहयोग से आईआईआईडीईएम द्वारा विकसित मॉड्यूल 
    भारत निर्वाचन आयोग ने आज निर्वाचनों के लिए योजना, राजनैतिक वित्त, मतदाता पंजीकरण, निर्वाचन प्रौद्योगिकी तथा राजनैतिक दलों और ईएमबी पर पांच अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण मॉड्यूल जारी किए। यह इंटरनेशनल फाउंडेशन फॉर इलेक्टोरल सिस्टम्स (आईएफईएस) के सहयोग से भारत अंतर्राष्ट्रीय लोकतंत्र एवं निर्वाचन प्रबंधन संस्थान (आईआईआईडीईएम) द्वारा तैयार किए जा रहे कुल दस मॉड्यूलों का एक हिस्सा है। मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री सुशील चंद्रा ने निर्वाचन आयुक्तों श्री राजीव कुमार और श्री अनूप चंद्र पांडेय तथा विडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए वाशिंगटन से जुड़ने वाली श्री एंथनी बानबरी, अध्यक्ष, आईएफईएस और उनकी टीम के साथ इन मॉड्यूलों का शुभारंभ किया।

    सीईसी श्री सुशील चंद्रा ने अपने संबोधन में इस बात पर जोर दिया कि भारत निर्वाचन आयोग प्रतिबद्ध, सक्षम, विश्वसनीय और कुशल प्रबंधकों द्वारा निर्वाचन प्रक्रियाओं का सावधानीपूर्वक, सटीक, मतदाता अनुकूल कार्यान्वयन सुनिश्चित करने के लिए नवाचार और प्रौद्योगिकीय उन्नयन को सर्वोपरि महत्व देता है। श्री सुशील चंद्रा ने आईआईआईडीईएम में प्रशिक्षित होने वाले अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षुओं के लिए इन संसूचित अद्यतन विषय के विशिष्ट मॉड्यूल के विकास का स्वागत किया। उन्होंने किसी भी निर्वाचन प्रबंधन प्रक्रिया में प्रमुख आयामों को संबोधित करने के लिए विविध विषयों को शामिल करने की सराहना की।
    निर्वाचन आयुक्त श्री राजीव कुमार ने निर्वाचन प्रशासन के विभिन्न पहलुओं में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर देखी गई तथा निर्वाचन प्रबंधन निकायों द्वारा झेली गई लगातार बढ़ती हुई चुनौतियों पर विचार करते हुए अपने संदेश में इन मॉड्यूल डिजाइनों के महत्व के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि ये मॉड्यूल एक बहुमुखी पैटर्न में डिज़ाइन किए गए हैं, ताकि उन्हें आमने-सामने (फेस-टू-फेस), ऑनलाइन और ई-लर्निंग प्रशिक्षण हाइब्रिड मोड के अनुरूप बनाया जा सके।
    निर्वाचन आयुक्त श्री अनूप चंद्र पांडेय ने इस बात पर प्रकाश डाला कि ये मॉड्यूल निर्वाचन प्रबंधन योजनाओं, अवलोकन प्रक्रियाओं, निर्वाचकीय प्रौद्योगिकी, निर्वाचन प्रणालियों, कानूनी ढांचा बनाने में प्रशिक्षण और क्षमता विकास की दिशा में अत्यधिक महत्व के विविध शीर्षकों पर निर्वाचन प्रबंधन की प्रक्रिया को समझने के लिए एक सूचनात्मक सामग्री के रूप में काम कर सकते हैं। 
    आईएफईएस के अध्यक्ष, श्री एंथनी बानबरी ने आईएफईएस-ईसीआई की साझेदारी और इन मॉड्यूलों का संक्षिप्त विवरण दिया। उन्होंने ईसीआई को आईएफईएस-आईआईआईडीईएम के जानकारी के आदान-प्रदान में भागीदारी जारी रखने का आश्वासन दिया।. 

    इंटरनेशनल फाउंडेशन फॉर इलेक्टोरल सिस्टम्स (आईएफईएस) वाशिंगटन डीसी स्थित एक गैर-सरकारी संगठन है जो नागरिकों के स्वतंत्र और निष्पक्ष निर्वाचनों में भाग लेने के अधिकार का समर्थन करता है। भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) ने शुरुआत में मई 2012 में आईएफईएस के साथ प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित करने और क्षमता निर्माण के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए थे। हाल ही में वर्ष 2019 में, तत्कालीन सीईसी की वाशिंगटन यात्रा के बाद, आईएफईएस ने आठ मौजूदा अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण मॉड्यूलों को अपडेट करने और दो नए मॉड्यूल अर्थात् राजनैतिक दल और ईएमबी और निर्वाचनों में सोशल मीडिया का उपयोग बनाने के लिए सहमति व्यक्त की। इसके लिए 5 अगस्त, 2020 को अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए थे। 
    डीजी, आईआईआईडीईएम और वरिष्ठ डीईसी श्री धर्मेंद्र शर्मा ने यह भी बताया कि माननीय आयोग ने सितंबर 2019 में भारत के तत्कालीन सीईसी द्वारा ए-वेब के अध्यक्ष के रूप में आईआईआईडीईएम के लिए "विदेशी भाषा सहायता प्राप्त मॉड्यूल" शुरू करने के लिए कई अल्पविकसित देशों के अनुरोध के प्रत्युत्तर में जताई गई प्रतिबद्धता के रूप में इन मॉड्यूलों के कुछ हिस्सों का स्पेनिश, फ्रेंच और पुर्तगाली में अनुवाद हेतु मंजूरी दी है।

    26 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  4. प्रेस नोट-शुद्धिपत्र

    सं. ईसीआई/पीएन/95/2021
    दिनांकः 09 नवम्बर, 2021
    प्रेस नोट-शुद्धिपत्र
    विषयः 08 स्थानीय प्राधिकरण निर्वाचन क्षेत्रों से आंध्र प्रदेश विधान परिषद के 11 आसीन सदस्यों के लिए द्विवार्षिक निर्वाचन-तत्संबंधी। 
    आयोग के दिनांक 09 नवम्बर, 2021 के प्रेस नोट सं. ईसीआई/पीएन/91/2021 के पृष्ठ सं. 1 पर प्रदर्शित सारणी में, स्तंभ 'सदस्य का नाम' के अंतर्गत क्र. सं. 4 और क्र. सं. 8 में प्रविष्टियां क्रमशः निम्नानुसार पढ़ी जाएं-
    'अन्नम सतीश प्रभाकर'
    (वांछित निर्वाचक नामावली की अनुपलब्धता के कारण 10.07.2019 से रिक्त)
    और
    'मागुंटा श्रीनिवासुलु रेड्डी'
    (वांछित निर्वाचक नामावली की अनुपलब्धता के कारण 14.03.2019 से रिक्त)।

    9 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  5. Biennial Election to the Maharashtra Legislative Council from 05 Local Authorities’ Constituencies for 06 seats due to retirement of sitting members on 01.01.2022–reg.

    No. ECI/PN/94/2021
    Dated: 09th November, 2021
                                                                  
    PRESS NOTE 
    Sub:-  Biennial Election to the Maharashtra Legislative Council from 05 Local Authorities’ Constituencies for 06 seats due to retirement of sitting members on 01.01.2022–reg. 
    The term of office of the 08 sitting members of Maharashtra Legislative Council from 07 Local Authorities’ Constituencies, is going to expire on 01.01.2022 as per details given below:
    MAHARASHTRA
    S.No.
    Name of Local Authorities’ Constituency
    No of Seat(s)
    Name of the Member
    Date of Retirement
    1.      
    Mumbai
     
    02
    Kadam Ramdas Gangaram
    01.01.2022
    Ashok Arjunrao alias Bhai Jagtap
    2.      
    Kolhapur
    01
    Patil Satej Alias Bunty D.
    01.01.2022
    3.      
    Dhule-cum-Nandurbar
    01
    Amrishbhai Rasiklal Patel
    01.01.2022
    4.      
    Akola-cum- Buldhana -cum- Washim
    01
    Gopikisan Radhakisan Bajoriya
    01.01.2022
    5.      
    Nagpur
    01
    Vyas Girishchandra Bachharaj
    01.01.2022
    6.      
    Solapur
    01
    Prashant Prabhakar Paricharak
    01.01.2022
    7.      
    Ahmednagar
    01
    Arunkaka Balbhimrao Jagtap
    01.01.2022
     2. With regard to Local Authorities’ Constituencies election, the Election Commission has laid down the guidelines that if atleast 75% of the local authorities in a local authorities’ constituency are functioning, and in addition at least 75% of the electors out of the total electorate of the constituency are available, then electorate is treated as available for electing representative(s) to the legislative council. These guidelines of the Election Commission got the approval of Supreme Court of India in Election Commission of India Vs Shivaji and Ors (AIR 1988 SC 61).
    3. As per the information received from the CEO, Maharashtra vide letter dated 25.10.2021 the existence of constituent local body functioning is more than 75% in 5 out of 07 Local Authorities’ Constituencies (except Solapur and Ahmednagar Local Authorities’ Constituencies).
    4. Now, the Commission has decided to hold biennial election to Maharashtra Legislative Council from following 05 Local Authorities’ Constituencies for 06 seats:-
    S.No.
    Name of Local Authorities’ Constituency
    No of Seat(s)
    Name of the retiring Member
    1.      
    Mumbai
     
    02
    Kadam Ramdas Gangaram
    Ashok Arjunrao alias Bhai Jagtap
    2.      
    Kolhapur
    01
    Patil Satej Alias Bunty D.
    3.      
    Dhule-cum-Nandurbar
    01
    Amrishbhai Rasiklal Patel
    4.      
    Akola-cum- Buldhana-cum-Washim
    01
    Gopikisan Radhakisan Bajoriya
    5.      
    Nagpur
    01
    Vyas Girishchandra Bachharaj
     5. The election programme for above-mentioned 05 Local Authorities’ Constituencies shall be as under:- 
    S. No
    Events
    Dates

    1 Issue of Notifications
    16th November, 2021 (Tuesday)

    2 Last date of making nominations
    23rd November, 2021 (Tuesday)

    3 Scrutiny of nominations
    24th November, 2021 (Wednesday)

    4 Last date for withdrawal of candidatures
    26th November, 2021 (Friday)

    5 Date of Poll
    10th December, 2021 (Friday)

    6 Hours of Poll
    08:00 am to 04:00 pm

    7 Counting of Votes
    14th December, 2021 (Tuesday)

    8 Date before which election shall be completed
    16th December, 2021 (Thursday)
    6. Broad Guidelines of Covid-19 as already issued by ECI as well as the recent guidelines issued by ECI as contained in para 06 of Press Note dated 28.09.2021 available at link https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19/ to be followed, wherever applicable, during entire election process for all persons. 
    7. The Model Code of Conduct concerning the said election will come into force with immediate effect in the concerned Constituency. Please see the details in Commission’s website under https://eci.gov.in/files/file/4070-biennial-bye-elections-to-the-legislative-councils-from-council-constituencies-by-graduates%E2%80%99-and teachers%E2%80%99-and-local-authorities%E2%80%99-constituencies-%E2%80%93-mcc-instructions-%E2%80%93-regarding/ 
    8.  The Chief Secretary, Maharashtra is being directed to depute a senior officer from the State to ensure that the extant instructions regarding COVID-19 containment measures are complied with while making arrangements for conducting the election.

    2 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  6. Biennial Election to the Karnataka Legislative Council from 20 Local Authorities’ Constituencies for 25 seats due to retirement of sitting members on 05.01.2022–reg.

    No. ECI/PN/93/2021                        
    Dated: 09th November, 2021
                                                                  
    PRESS NOTE 
    Sub:-  Biennial Election to the Karnataka Legislative Council from 20 Local Authorities’ Constituencies for 25 seats due to retirement of sitting members on 05.01.2022–reg. 
    The term of office of the 25 sitting members of Karnataka Legislative Council from 20 Local Authorities’ Constituencies is going to expire on 05.01.2022 as per details given below:
    KARNATAKA
    S.No.
    Name of Local Authorities Constituencies
    No. of seat(s)
    Name of member
    Date of Retirement
    1.       
    Bidar
    01
    Vijay Singh
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
    05.01.2022
    2.       
    Gulbarga
     
    01
    B. G. Patil
    3.       
    Bijapur
    02
    S.R. Patil
    Sunilgouda Patil
    4.       
    Belgaum
    02
    Kavatagimath Mahantesh Mallikarjun
    Vivekrao Vasantrao Patil
    5.       
    Uttara Kannada
    01
    Ghotnekar Shrikant Laxman
    6.       
    Dharwad
    02
    Pradeep Shettar
    Mane Shrinivas
    7.       
    Raichur
    01
    Basavaraj Patil Itagi
    8.       
    Bellary
    01
    K. C. Kondaiah
    9.       
    Chitradurga
    01
    G. Raghuachar
    10.   
    Shimoga
    01
    R. Prasanna Kumar
    11.   
    Dakshina Kannada
    02
    K. Prathapchandra Shetty
    Kota Srinivasa Poojary
    12.   
    Chikmagalur
    01
    Pranesh M.K.
    13.   
    Hassan
    01
    M.A. Gopalaswamy
    14.   
    Tumkur
    01
    Kanthraj (BML)
    15.   
    Mandya
    01
    N. Appajigowda
    16.   
    Bangalore
    01
    M. Narayanaswamy
    17.   
    Bangalore Rural
    01
    S. Ravi
    18.   
    Kolar
    01
    C.R. Manohar
    19.   
    Kodagu
    01
    Sunil Subramani M.P.
    20.   
    Mysore
    02
    R. Dharmasena
    S. Nagaraju (Sandesh Nagaraju)
     
    2.          Now, the Commission has decided to hold biennial election to Karnataka Legislative Council from above mentioned 20 Local Authorities’ Constituencies in accordance with the following programme:-
     
    S. No
    Events
    Dates

    1 Issue of Notifications
    16th November, 2021 (Tuesday)

    2 Last date of making nominations
    23rd November, 2021 (Tuesday)

    3 Scrutiny of nominations
    24th November, 2021 (Wednesday)

    4 Last date for withdrawal of candidatures
    26th November, 2021 (Friday)

    5 Date of Poll
    10th December, 2021 (Friday)

    6 Hours of Poll
    08:00 am to 04:00 pm

    7 Counting of Votes
    14th December, 2021 (Tuesday)

    8 Date before which election shall be completed
    16th December, 2021 (Thursday)
    3. Broad Guidelines of Covid-19 as already issued by ECI as well as the recent guidelines issued by ECI as contained in para 06 of Press Note dated 28.09.2021 available at link https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19/ to be followed, wherever applicable, during entire election process for all persons. 
    4.  The Model Code of Conduct concerning the said election will come into force with immediate effect in the concerned Constituency. Please see the details in Commission’s website under https://eci.gov.in/files/file/4070-biennial-bye-elections-to-the-legislative-councils-from-council-constituencies-by-graduates%E2%80%99-and teachers%E2%80%99-and-local-authorities%E2%80%99-constituencies-%E2%80%93-mcc-instructions-%E2%80%93-regarding/ 
    5.  The Chief Secretary, Karnataka is being directed to depute a senior officer from the State to ensure that the extant instructions regarding COVID-19 containment measures are complied with while making arrangements for conducting the election.

    2 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  7. Biennial Election to the Telangana Legislative Council from 09 Local Authorities’ Constituencies for 12 seats due to retirement of sitting members on 04.01.2022–reg.

    No. ECI/PN/92/2021                        
    Dated: 09th November 2021
                                                                  
    PRESS NOTE 
    Sub:-  Biennial Election to the Telangana Legislative Council from 09 Local Authorities’ Constituencies for 12 seats due to retirement of sitting members on 04.01.2022–reg. 
    The term of office of the 12 sitting members of Telangana Legislative Council from 09 Local Authorities’ Constituencies is going to expire on 04.01.2022 as per details given below:
    TELANGANA
    S.No.
    Name of Local Authorities’ Constituency
    No of Seat(s)
    Name of the Member
    Date of Retirement
    1.      
    Adilabad
    01
    Puranam Satish Kumar
    04.01.2022
    2.      
    Warangal
    01
    Pochampally Srinivas Reddy
    04.01.2022
    3.      
    Nalgonda
    01
    Tera Chinnapa Reddy
    04.01.2022
    4.      
    Medak
    01
    V. Bhoopal Reddy
    04.01.2022
    5.      
    Nizamabad
    01
    Kalvakuntla Kavitha
    04.01.2022
    6.      
    Khammam
    01
    Balasani Laxminarayana
    04.01.2022
    7.      
    Karimnagar
    02
    T. Bhanuprasad Rao
    04.01.2022
     
    Naradasu Laxman Rao
    8.      
    Mahabubnagar
    02
    Kasireddy Narayan Reddy
    04.01.2022
     
    Kuchukulla Damoder Reddy
    9.      
    Ranga Reddy
    02
    Sri Patnam Mahender Reddy
    04.01.2022
     
    Sunkari Raju
    2.          Now, the Commission has decided to hold biennial election to Telangana Legislative Council from above mentioned 09 Local Authorities’ Constituencies in accordance with the following programme:- 
    S. No
    Events
    Dates

    1. Issue of Notifications
    16th November, 2021 (Tuesday)

    2. Last date of making nominations
    23rd November, 2021 (Tuesday)

    3. Scrutiny of nominations
    24th November, 2021 (Wednesday)

    4. Last date for withdrawal of candidatures
    26th November, 2021 (Friday)

    5. Date of Poll
    10th December, 2021 (Friday)

    6. Hours of Poll
    08:00 am to 04:00 pm

    7. Counting of Votes
    14th December, 2021 (Tuesday)

    8. Date before which election shall be completed
    16th December, 2021 (Thursday)
     
    3.  Broad Guidelines of Covid-19 as already issued by ECI as well as the recent guidelines issued by ECI as contained in para 06 of Press Note dated 28.09.2021 available at link https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19/ to be followed, wherever applicable, during entire election process for all persons. 
    4.   The Model Code of Conduct concerning the said election will come into force with immediate effect in the concerned Constituency. Please see the details in Commission’s website under https://eci.gov.in/files/file/4070-biennial-bye-elections-to-the-legislative-councils-from-council-constituencies-by-graduates%E2%80%99-and teachers%E2%80%99-and-local-authorities%E2%80%99-constituencies-%E2%80%93-mcc-instructions-%E2%80%93-regarding/
    5.  The Chief Secretary, Telangana is being directed to depute a senior officer from the State to ensure that the extant instructions regarding COVID-19 containment measures are complied with while making arrangements for conducting the election.

    2 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  8. Biennial Elections to 11 sitting members of Andhra Pradesh Legislative Council from 08 Local Authorities’ Constituencies –reg.

    No. ECI/PN/91/2021     
    Dated: 09th November, 2021
    PRESS NOTE 
    Subject:    Biennial Elections to 11 sitting members of Andhra Pradesh Legislative Council from 08 Local Authorities’ Constituencies –reg.                 
    The term of office of 11 sitting members of Andhra Pradesh Legislative Council from 08 Local Authorities’ Constituencies had expired as per details below: -
    S.No.
    Name of Local Authorities Constituencies
    No. of seat(s)
    Name of member
    Date of Retirement
    1.       
    Anantapur Local Authorities
    01
    Payyavula Keshav
    (Vacant w.e.f  04.06.2019 due to non availability of desired electoral roll) 
    11.08.2021
    2.       
    Krishna Local Authorities’
    01
    Venkateswara Rao Buddha
    11.08.2021
    01
    Yalamanchili Venkata Babu
    Rajendra Prasad
    11.08.2021
    3.       
    East Godavari Local Authorities’
    01
    Reddy Subrahmanyam
    11.08.2021
    4.       
    Guntur Local Authorities’
    02
    Annam Satish Prabhakar
    (Vacant w.e.f  04.06.2019 due to non availability of desired electoral roll) 
    11.08.2021
     
    Ummareddy Venkateswarlu
    5.       
    Vizianagaram Local Authorities’
    01
    Dwarapureddi Jagadeeswara Rao
    11.08.2021
    6.       
    Visakhapatnam Local Authorities’
    01
    Buddha Naga Jagadeswara Rao
    11.08.2021
    01
    Chalapathi Rao Pappala
    11.08.2021
    7.       
    Chittoor Local Authorities’
    01
    Gali Saraswathi
    11.08.2021
    8.       
    Prakasam Local Authorities’
    01
    Magunta Sreenivasulu Reddy (Vacant w.e.f  04.06.2019 due to non-availability of desired electoral roll)
    11.08.2021
    2.  Biennial elections to fill up 11 seats could not be conducted by 11.08.2021 as the Constituent Local Bodies/Electors were not in existence at that time. The Commission vide letter dated 07.06.2021 had sought information regarding existence of constituent Local Bodies functioning and their percentage in the said Constituencies. The CEO, Andhra Pradesh vide letter dated 23.06.2021 had informed that of the above (8) Local Authorities’ Constituencies in Andhra Pradesh, the percentage of constituent Local Bodies functioning was ranging between 6.98 and 16 and the percentage of electors in position was ranging between 17.75 and 27.50 as elections to most of the local bodies in these 8 Local Authorities Constituencies were either pending or were not conducted by the State Election Commission, Andhra Pradesh.
    3.  Now, as per the information received from the CEO, Andhra Pradesh vide letter dated 01.10.2021, both the percentage of constituent Local Bodies functioning and the percentage of electors in position is above 75%, in respect of above mentioned 08 Local Authorities’ Constituencies in Andhra Pradesh.  
    4. With regard to Local Authorities’ Constituencies election, the Election Commission has laid down the guidelines that if atleast 75% of the local authorities in a local authorities’ constituency are functioning, and in addition at least 75% of the electors out of the total electorate of the constituency are available, then electorate is treated as available for electing representative(s) to the legislative council. These guidelines of the Election Commission got the approval of Supreme Court of India in Election Commission of India Vs Shivaji and Ors (AIR 1988 SC 61).
     5.  The Commission having re-assessed Covid-19 pandemic situation in the State of Andhra Pradesh and after taking into consideration all relevant facts, has now decided to conduct biennial election to the Andhra Pradesh Legislative Council from above-mentioned 08 Local Authorities’ Constituencies  in accordance with the following programme:-
    S.No
    EVENTS
    DATES & DAYS
    1.        
    Issue of Notifications
    16th November, 2021 (Tuesday)
    2.        
    Last date of making nominations
    23rd November, 2021 (Tuesday)
    3.        
    Scrutiny of nominations
    24th November, 2021 (Wednesday)
    4.        
    Last date for withdrawal of candidatures
    26th November, 2021 (Friday)
    5.        
    Date of poll
    10th December, 2021 (Friday)
    6.        
    Hours of poll   
    08:00 am to 04:00 pm
    7.        
    Counting of Votes
    14th December, 2021 (Tuesday)
    8.        
    Date before which election shall be completed
    16th December, 2021 (Thursday)
     6.  Broad Guidelines of Covid-19 as already issued by ECI as well as the recent guidelines issued by ECI as contained in para 06 of Press Note dated 28.09.2021 available at link https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19/ to be followed, wherever applicable, during entire election process for all persons. 
    7.  The Model Code of Conduct concerning the said election will come into force with immediate effect in the concerned Constituency. Please see the details in Commission’s website under https://eci.gov.in/files/file/4070-biennial-bye-elections-to-the-legislative-councils-from-council-constituencies-by-graduates%E2%80%99-and teachers%E2%80%99-and-local-authorities%E2%80%99-constituencies-%E2%80%93-mcc-instructions-%E2%80%93-regarding/
     8.  The Chief Secretary, Andhra Pradesh is being directed to depute a senior officer from the State to ensure that the extant instructions regarding COVID-19 containment measures are complied with while making arrangements for conducting the election.

    2 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  9. आंध्र प्रदेश और तेलंगाना विधान परिषद के लिए विधान सभा के सदस्यों द्वारा द्विवार्षिक निर्वाचन-तत्संबंधी

    सं. ईसीआई/पीएन/90/2021
    दिनांकः 31 अक्तूबर, 2021
     
    प्रेस नोट
     विषय: आंध्र प्रदेश और तेलंगाना विधान परिषद के लिए विधान सभा के सदस्यों द्वारा द्विवार्षिक  निर्वाचन-तत्संबंधी        
     आंध्र प्रदेश और तेलंगाना विधान परिषद के संबंधित विधान सभा के सदस्यों द्वारा निर्वाचित  निम्नलिखित आसीन सदस्यों का कार्यकाल क्रमशः 31.05.2021 और 03.06.2021 को समाप्त हो चुका था। विवरण निम्नानुसार हैं:- 
    क्र. सं.
    सदस्य का नाम
    सेवानिवृत्ति की तारीख
    आंध्र प्रदेश
    1.
    चिन्ना गोविंदा रेड्डी देवासनी
     
    31.05.2021
    2.
    मोहम्मद अहमद शरीफ
    3.
    सोमु वीरराजु
    तेलंगाना
    1.
    अकुल ललिता
     
     
     
    03.06.2021
    2.
    मोहम्मद फरीदूद्दीन
    3.
    गुथा सुकंद्र रेड्डी
    4.
    विद्यासागर नेथी
    5.
    वेंकटेश्वरलु बोडाकुंती
    6.
    श्रीहरि कडियम
    2. आयोग ने  प्रेस नोट सं. ईसीआई/पी एन/65/2021, दिनांक 13.05.2021 के द्वारा निर्णय लिया था कि देश में कोविड-19 की दूसरी लहर के प्रकोप के कारण, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना विधान परिषदों के लिए द्विवार्षिक निर्वाचन तब तक कराना उचित नहीं होगा, जब तक कि महामारी की स्थिति में काफी सुधार नहीं हो जाता और उपर्युक्त द्विवार्षिक निर्वाचन कराने के लिए परिस्थितियां अनुकूल नहीं हो जातीं। 
    3. आयोग ने आंध्र प्रदेश और तेलंगाना राज्य में स्थिति का पुनःआकलन करके और सभी प्रासंगिक तथ्यों को ध्यान में रखने के बाद, अब आंध्र प्रदेश और तेलंगाना विधान परिषदों के संबंधित विधान सभा सदस्यों द्वारा उपर्युक्त द्विवार्षिक निर्वाचनों को निम्नलिखित कार्यक्रम के अनुसार आयोजित करने का निर्णय लिया है:-  
    क्र.सं.
    कार्यक्रम
    दिनांक
    1.
    अधिसूचना जारी करना
    09 नवम्बर, 2021 (मंगलवार)
    2.
    नाम-निर्देशन करने की अंतिम तिथि
    16 नवम्बर, 2021 (मंगलवार)
    3.
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा
    17 नवम्बर, 2021 (बुधवार)
    4.
    अभ्यर्थिताएं वापिस लेने की अंतिम तारीख
    22 नवम्बर, 2021 (सोमवार)
    5.
    मतदान की तिथि
    29 नवम्बर, 2021 (सोमवार)
    6.
    मतदान का समय
    पूर्वाह्न 9.00 बजे से अपराह्न 4.00 बजे तक
    7.
    मतगणना
    29 नवम्बर, 2021 (सोमवार) सायं 5.00 बजे 
    8.
    वह तारीख, जिससे पहले निर्वाचन पूरा हो जाएगा
    01 दिसम्बर, 2021 (बुधवार)
     4.      भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) द्वारा सभी व्यक्तियों के लिए पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान पहले ही जारी किए गए कोविड-19 के व्यापक दिशा-निर्देश के साथ-साथ ईसीआई द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट, दिनांक 28.09.2021 के पैरा 06 में निहित हाल ही के दिशानिर्देश, जो https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19 लिंक पर उपलब्ध है, जहां कहीं भी लागू हो, का अनुपालन किया जाए। 
    5.    संबंधित राज्यों के मुख्य सचिवों को निर्वाचन के संचालन की व्यवस्था करते समय कोविड-19 की रोकथाम के उपायों के संबंध में मौजूदा निदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करने हेतु राज्य से एक वरिष्ठ अधिकारी को नियुक्त करने के लिए निर्देश दिया जा रहा है। 

    36 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  10. विधान सभा के सदस्यों द्वारा महाराष्ट्र विधान परिषद के लिए उप-निर्वाचन-तत्संबंधी

    सं. ईसीआई/पीएन/89/2021
    दिनांकः 31 अक्तूबर, 2021
    प्रेस नोट
    विषय: विधान सभा के सदस्यों द्वारा महाराष्ट्र विधान परिषद के लिए उप-निर्वाचन-तत्संबंधी 
           
    महाराष्ट्र विधान परिषद में महाराष्ट्र विधान सभा के सदस्यों द्वारा भरे जाने के लिए एक आकस्मिक रिक्ति है। रिक्ति का विवरण निम्नानुसार है:-
     
    क्र. सं.
    सदस्य का नाम
    निर्वाचन की प्रकृति
    रिक्ति की तारीख एवं कारण
    की अवधि तक
    1.
    श्री शरद नामदेव रणपिसे
    एमएलए द्वारा
    23.09.2021
    देहांत
    27.07.2024
     
    2.     आयोग ने निम्नलिखित कार्यक्रम के अनुसार उपर्युक्त रिक्ति को भरने के लिए महाराष्ट्र विधान सभा के सदस्यों द्वारा महाराष्ट्र विधान परिषद के लिए एक उप-निर्वाचन आयोजित करवाने का निर्णय लिया है:- 
     
    क्र.सं.
    कार्यक्रम
    दिनांक
    1.
    अधिसूचना जारी करना
    09 नवम्बर, 2021 (मंगलवार)
    2.
    नाम-निर्देशन करने की अंतिम तिथि
    16 नवम्बर, 2021 (मंगलवार)
    3.
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा
    17 नवम्बर, 2021 (बुधवार)
    4.
    अभ्यर्थिताएं वापिस लेने की अंतिम तारीख
    22 नवम्बर, 2021 (सोमवार)
    5.
    मतदान की तिथि
    29 नवम्बर, 2021 (सोमवार)
    6.
    मतदान का समय
    9.00 बजे पूर्वाह्न से अपराह्न 4.00 बजे तक
    7.
    मतगणना
    29 नवम्बर, 2021 (सोमवार) सायं 5.00 बजे 
    8.
    वह तारीख, जिससे पहले निर्वाचन पूरा हो जाएगा
    01 दिसम्बर, 2021 (बुधवार)
    3.      भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) द्वारा सभी व्यक्तियों के लिए पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान पहले ही जारी किए गए कोविड-19 के व्यापक दिशा-निर्देश के साथ-साथ ईसीआई द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट, दिनांक 28.09.2021 के पैरा 06 में यथा निहित हाल ही के दिशानिर्देश जो https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19 लिंक पर उपलब्ध है, जहां कहीं भी लागू हो, का अनुपालन किया जाए। 
    4.    मुख्य सचिव, महाराष्ट्र को निर्वाचन के संचालन की व्यवस्था करते समय कोविड-19 की रोकथाम के उपायों के संबंध में मौजूदा निदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करने हेतु राज्य से एक वरिष्ठ अधिकारी को नियुक्त करने का निर्देश दिया जा रहा है। 

    16 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  11. Bye Elections to the Council of States from Kerala and West Bengal -reg.

    No. ECI/PN/88/2021                               
    Dated: 31st October, 2021
     
    PRESS NOTE
    Subject:   Bye Elections to the Council of States from Kerala and West Bengal -reg.
    There are two casual vacancies in the Council of States from Kerala and West Bengal as per details below: -
    State
    Name of Member
    Cause of vacancy
    Date of vacancy
    Term Up to
    Kerala
    Shri Jose K. Mani
    Resignation
    11.01.2021
    01.07.2024
    West Bengal
    Ms. Arpita Ghosh
    Resignation
    15.09.2021
    02.04.2026
    2. The Commission vide Press Note No. ECI/PN/67/2021, dated 28.05.2021 had decided that due to outbreak of the second wave of COVID-19 in the country, it would not be appropriate to hold bye election to the Council of States from Kerala till the pandemic situation significantly improves and conditions become conducive to hold bye election to the Council of States from Kerala.
    3. The Commission having re-assessed the situation in the State of Kerala and after taking into consideration all relevant facts, has now decided to conduct above-mentioned two bye elections to the Council of States from Kerala and West Bengal in accordance with the following programme: -
    S. No
    Events
    Dates
    1
    Issue of Notifications
    09th November, 2021 (Tuesday)
    2
    Last date of making nominations
    16th November, 2021 (Tuesday)
    3
    Scrutiny of nominations
    17th November, 2021 (Wednesday)
    4
    Last date for withdrawal of candidatures
    22nd November, 2021 (Monday)
    5
    Date of Poll
    29th November, 2021 (Monday)
    6
    Hours of Poll
    09:00 am to 04:00 pm
    7
    Counting of Votes
    29th November, 2021 (Monday) at 05:00 pm
    8
    Date before which election shall be completed
    01st December, 2021 (Wednesday)
     
    4. Broad Guidelines of Covid-19 as already issued by ECI as well as the recent guidelines issued by ECI as contained in para 06 of Press Note dated 28.09.2021 available at link https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19/. to be followed, wherever applicable, during entire election process for all persons.
    5. The Chief Secretaries of States concerned are being directed to depute a senior officer from the State to ensure that the extant instructions regarding COVID-19 containment measures are complied with while making arrangements for conducting the election.

    9 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  12. Shri Sushil Chandra, Hon’ble Chief Election Commissioner of India visits Uzbekistan as an International Observer for Presidential Elections (21 - 25 Oct 2021)

    No. ECI/PN/87/2021 
    Dated: 28th October, 2021
     
    PRESS NOTE
      Shri Sushil Chandra, Hon’ble Chief  Election Commissioner of India visits Uzbekistan as an International Observer for Presidential Elections  
    (21 - 25 Oct 2021)
    On the  invitation of the Chairman, Central Election Commission  of Uzbekistan, (CEC-U),  Chief Election Commissioner of India, Shri Sushil Chandra led a three member delegation to Uzbekistan  in order to observe the conduct of Presidential elections held on October 24, 2021. This election, conducted under the new election code, was keenly watched by the international community. 

    The CEC of India and the Chairman, CEC of Uzbekistan Mr. Zainiddin M.  Nizamkhodjaev held a bilateral meeting on electoral cooperation on October 21,2021. The Chairman, CEC-U thanked  Shri Chandra for accepting his invitation and also briefed him about the various measures taken for the conduct of this election including  single electronic voters’ list, arrangements for in-person voting  on poll day and early voting as well as  covid safety arrangements. Sh. Chandra spoke about the recent conduct of elections in India and various avenues for further strengthening electoral ties between the two countries through signing of MoU on electoral cooperation and training and capacity building programs which ECI would be happy to organize for Uzbekistan election officials. Delegates from Uzbekistan have been avidly participating in ECI’s International Election Visitors Programmes (IEVP) organized during elections and officials from Uzbekistan have been attending training programs at ECI under the ITEC program. 
    Under the Uzbekistan Election law, the President is elected for a five year term from a single nationwide constituency. The election administration follows a three-tier structure comprised of the Central Election Commission, 14 District Election Commissions and 10,760 Precinct Election Commissions. Uzbekistan has an electorate of about 20 million. Each polling station caters to a maximum of 3000 voters. Early voting system was in place from October 14-20 and  421,618 people used the early voting facility including 120,524 from abroad. 
    Only registered political parties can nominate candidates to run in elections. Five candidates -four men and one woman candidate contested elections for the President of Uzbekistan. The campaign for elections is funded by the State. A number of infographics carrying photographs and information about the five candidates was displayed at prominent locations in Uzbekistan.  

    The Indian delegation visited the 7th and 14th District Election Commissions to obtain an overview of the electoral administration, procedures and initiatives of the CEC of Uzbekistan. Thereafter, they visited polling stations in Uzbekistan in order to observe the election process in detail. Various aspects of conduct of elections including voter lists, identification of voters, early voting mechanisms, arrangements for facilitation of the elderly and persons with disabilities, Covid safety protocols,  polling station readiness and casting of vote by ballot paper were observed  across different polling stations.   


    Presence of representatives of political parties/candidates and mahalla committees was noticed at polling booths. Voters were identified through passports or driving license document. A count of voters including First time voters and those voting from home was being maintained. Hourly reports of voter turnout were being sent to CEC electronically.
    Shri Sushil Chandra took this opportunity to interact with the Officials of the Indian Embassy led by the Ambassador of India to Uzbekistan,  Shri Manish Prabhat and briefed them about the Electronic Transfer of Postal Ballot System (ETPBS) facilities for voting by service voters. This was followed by a very active and vibrant interaction on Indian elections with the representatives of Non-Resident Indian community  based in Tashkent. 

    The CEC also paid floral tribute at the bust of India’s second Prime Minister, Lal Bahadur Shastriji at his memorial in Tashkent.

    65 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  13. संपूर्ण जिले में उप-निर्वाचन के दौरान आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) लागू होना-तत्संबंधी।

    सं. ईसीआई/पीएन/86/2021  
    दिनांकः 21 अक्तूबर, 2021
     
    प्रेस नोट
    विषयः संपूर्ण जिले में उप-निर्वाचन के दौरान आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) लागू होना-तत्संबंधी। 
       आयोग के ध्यान में यह लाया गया है कि आयोग के पत्र सं. 437/6/अनुदेश/2016-सीएसएस दिनांक 29 जून, 2017, में निहित, अनुदेश के संदर्भ में जिसे पत्र सं. 437/6/1/ईसीआई/अनु./प्रका-/एमसीसी/2017 दिनांक 18 जनवरी, 2018 में पुनः दोहराया गया था कि यदि निर्वाचन-क्षेत्र में राज्य की राजधानी/महानगर/नगर निगम शामिल हैं, तो आदर्श आचार संहिता अनुदेश केवल संबंधित निर्वाचन-क्षेत्र के इलाके में ही लागू होंगे। अन्य सभी मामलों में, उपर्युक्त अनुदेश ऐसे संपूर्ण जिले (लों) पर लागू होंगे, जिनमें उप निर्वाचन (नों) होने वाले निर्वाचन क्षेत्र शामिल हैं। 
       इन अनुदेशों की भावना यह रही है कि विकासात्मक तथा प्रशासनिक कार्य आदर्श आचार संहिता के निहितार्थ के बिना जारी रहने चाहिए और उप-निर्वाचन के लिए चुनाव-प्रचार केवल संबंधित संसदीय निर्वाचन क्षेत्र/विधान-सभा निर्वाचन क्षेत्र तक सीमित होना चाहिए।  
        तथापि, ऐसी स्थिति हो जाती है कि चल रहे उप-निर्वाचन जैसी राजनैतिक गतिविधियां संसदीय निर्वाचन-क्षेत्र/विधान-सभा निर्वाचन क्षेत्र के बाहर लेकिन जिला के अन्दर संचालित की जा सकती हैं। ऐसी गतिविधियां उपर्युक्त अनुदेशों की भावना के विपरित होंगी। इस तरह यह भी स्पष्ट किया जाता है कि यदि जिले के भीतर कही भी प्रगतिरत उप निर्वाचन से संबंधित चुनावी गतिविधियां आयोजित की जाती हैं, तो एमसीसी, कोविड तथा व्यय अनुवीक्षण के प्रवर्तन से संबंधित सभी अनुदेश वैसे ही लागू होंगे जैसे राजनैतिक गतिविधियों के मामले में लागू होते हैं। संबंधित जिला निर्वाचन अधिकारी ऐसे मामलों में सभी आवश्यक कार्रवाई करेंगे और कड़ा अनुपालन सुनिश्चित करेंगे।  

    41 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  14. Advisory to political parties/ contesting candidates for compliance of Model Code of Conduct (MCC) during bye election - regarding.

    No. ECI/PN/85/2021                                                        
    Dated: 21st October, 2021
    PRESS NOTE
     
    Subject : Advisory to political parties/ contesting candidates for compliance of Model Code of Conduct (MCC) during bye election - regarding.
    The Commission's existing instructions regarding enforcement of Model Code of Conduct during bye-elections to Parliamentary/Assembly Constituency provides that the applicability of Model Code of Conduct would be to the concerned district(s) comprising the AC/PC going to such bye-election. The only relaxation in these instructions have been given vide the Commission's letter 437/6/INST/2016-CSS dated 29th June, 2017 and reiterated vide letter no 437/6/1/ECI/INST/FUNCT/MCC/2017 dated 18th January, 2018 that in case the constituency is comprised in State Capital/Metropolitan Cities/Municipal Corporations. In such cases, MCC instructions would be applicable in the area of concerned Constituency only. In all other cases, aforesaid instructions would be enforced in the entire district(s) covering the Constituency going for bye-election(s). The above relaxation has been given with an objective that the operation of MCC does not hamper normal developmental and administrative functioning in the State and districts. 
    It has been brought to the notice of the Commission that certain political parties/candidates are organizing electioneering activities in the areas adjoining the district/constituency where the bye-election is being conducted. In this regard all political parties/candidates are advised not to organize any political activities directly related to the bye-elections even in the areas adjoining the district/constituency where the bye-election are being held. The District Election
    Officers concerned will ensure that the MCC instructions and COVID guidelines relating to the norms of social distancing are followed in the districts adjoining to the poll going district/constituency.

    2 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  15. भारत निर्वाचन आयोग ने "निर्वाचन एवं लोकतंत्र पर भारत निर्वाचन आयोग की वार्षिक निबंध प्रतियोगिता" के प्रथम संस्करण का शुभारंभ किया

    सं. ईसीआई/पीएन/84/2021
    दिनांक: 01 अक्तूबर, 2021
    प्रेस नोट
    भारत निर्वाचन आयोग ने "निर्वाचन एवं लोकतंत्र पर भारत निर्वाचन आयोग की वार्षिक निबंध प्रतियोगिता" के प्रथम संस्करण का शुभारंभ किया 
    राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का आयोजन आईआईआईडीईएम और जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल (जेजीएलएस) द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है 
    प्रतियोगिता के लिए प्रविष्टियां 2 अक्तूबर से 21 नवंबर, 2021 तक प्राप्त की जाएंगी
     
    भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) ने आज भारत अंतरराष्‍ट्रीय लोकतंत्र एवं निर्वाचन प्रबंधन संस्‍थान (आईआईआईडीईएम) और जिंदल ग्‍लोबल लॉ स्‍कूल (जेजीएलएस), ओ.पी. जिंदल ग्‍लोबल यूनिवर्सिटी, सोनीपत, हरियाणा द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित "निर्वाचन एवं लोकतंत्र पर भारत निर्वाचन आयोग वार्षिक राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता" के प्रारंभिक संस्‍करण के शुभारंभ की घोषणा की। इस प्रतियोगिता का शुभारंभ 2 अक्तूबर, 2021 को होगा और प्रविष्टियां जमा करने की अंतिम तिथि 14 नवंबर, 2021 है। प्रतियोगिता के लिए दो विषय हैं -विषय 1: 'चुनावों के दौरान सोशल मीडिया विनियमों के लिए विधिक संरचना' और विषय 2: 'चुनावी लोकतंत्र के संरक्षण में भारत निर्वाचन आयोग की भूमिका'। इस निबंध प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य कानून के छात्रों को समकालीन शोध से जुड़ने और भारत में निर्वाचनों को शासित करने वाली विधि के नए आयामों की खोज करने के लिए प्रोत्साहित करना है। 
    निबंध प्रतियोगिता ऑनलाइन होगी और यह अंग्रेजी और हिंदी दोनों में आयोजित की जाएगी। इस निबंध प्रतियोगिता में भारतीय विधि विश्‍वविद्यालय/बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा मान्‍यता-प्राप्‍त संस्‍थान/महाविद्यालय द्वारा संचालित विधि कार्यक्रम में अध्‍ययनरत छात्र भाग लेने के पात्र होंगे। निबंध के लिए प्रविष्टियों का मूल्यांकन निर्वाचन विधि के विशेषज्ञ जेजीएलएस संकाय के सदस्यों द्वारा आईआईआईडीईएम के परामर्श से मूल्यांकन के पांच मानदण्ड, जैसे विषय-वस्तु की मौलिकता, आरेखण एवं प्रस्तुतीकरण, शोध की गुणवत्ता, तार्किकता और प्राधिकृत पाठों व उद्धरणों के प्रयोग से किया जाएगा। विभिन्न श्रेणियों के लिए उपलब्ध पुरस्कार आकर्षक हैं, जिसमें प्रथम पुरस्कार 1 लाख रु. की राशि का है।
    निबंध प्रतियोगिता के महत्व पर जोर देते हुए मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री सुशील चंद्रा ने एक संदेश साझा किया कि यह प्रतियोगिता लॉ स्कूलों में पढ़ने वाले युवा तथा मेधावी विद्यार्थियों को भारत में निर्वाचनों को शासित करने वाली विधियों तथा नीतियों पर अनुसंधान करने के लिए प्रेरित करने का एक प्रयास है। उन्होंने यह भी कहा कि यह निबंध प्रतियोगिता छात्रों को ऐसा मंच प्रदान करेगी जहां वे अपने गूढ़ ज्ञान, विश्लेषणात्मक क्षमता और सजग लेखन शैली का प्रदर्शन कर सकेंगे। 
    निर्वाचन आयुक्त श्री राजीव कुमार ने अपने संदेश में इस बात पर जोर दिया कि यह निबंध प्रतियोगिता कानून के छात्रों की प्रतिभा को निखारकर, उसे विकसित करने तथा उपयोग में लाने की एक पहल है तथा यह उन्हें इस संविधान, विधि एवं निर्वाचन प्रक्रिया के प्रति अपनी प्रतिभा को व्यक्त करने का वार्षिक प्रतिस्पर्धात्मक अवसर भी प्रदान करेगी। निर्वाचन विधि के क्षेत्र में चुनौतियों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने बताया कि निर्वाचन विधियों का सरोकार न केवल मतदाताओं, राजनैतिक दलों और अभ्यर्थियों के अधिकारों से है, अपितु उनके उत्तरदायित्वों से भी है। उन्होंने सभी युवा छात्रों को इस प्रतियोगिता में बढ़-चढ़ कर भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया। 
    निबंध प्रतियोगिता के दो विषयों पर प्रकाश डालते हुए श्री अनूप चंद्र पांडेय, निर्वाचन आयुक्त ने अपने संदेश में कहा कि इनके लिए प्रतिभागियों से अपेक्षित है कि वे सामान्य रूप से लोकतांत्रिक प्रक्रिया के विभिन्न संवैधानिक और कानूनी पहलुओं का और विशेष रूप से निर्वाचकीय प्रावधानों का गहन अध्ययन करें। उन्होंने आगे इस बात के प्रति अपना पूरा भरोसा जताया कि प्रतियोगिता के युवा प्रतिभागी, इन दोनों विषयों पर उत्‍कृष्‍ट आलेख प्रस्‍तुत करेंगे। 
    राष्ट्रीय निबंध प्रतियोगिता का पूरा विवरण वेबसाइट यूआरएल:  https://www.eciessay.org पर उपलब्ध है, जो 2 अक्तूबर, 2021 से क्रियाशील होगा।

    375 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  16. विभिन्न राज्यों के संसदीय/विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में उप-निर्वाचनों के लिए कार्यक्रम- तत्संबंधी।

    सं. ईसीआई/पीएन/83/2021
    दिनांकः 28 सितम्बर, 2021
     
    प्रेस नोट
    विषयः विभिन्न राज्यों के संसदीय/विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में उप-निर्वाचनों के लिए कार्यक्रम- तत्संबंधी।
          आयोग ने महामारी, बाढ़, त्यौहारों, कुछ क्षेत्रों में ठंड की स्थिति, संबंधित राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों से प्रतिक्रिया (फीडबैक) की समीक्षा की है तथा सभी तथ्यों और परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए आयोग ने नीचे दिए गए विवरण के अनुसार संघ राज्य क्षेत्र दादरा और नागर हवेली एवं दमन और दीव, मध्य प्रदेश और हिमाचल प्रदेश के तीन (3) संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों और विभिन्न राज्यों के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में तीस (30) रिक्तियों को भरने के लिए उप-निर्वाचन कराने का निर्णय लिया है:
    क्र. सं.
    राज्य/संघ राज्य क्षेत्र
    संसदीय निर्वाचन क्षेत्र की संख्या और नाम
    1.
    दादरा और नागर हवेली एवं दमन और दीव संघ राज्य क्षेत्र
    दादरा और नागर हवेली
    2.
    मध्य प्रदेश
    28-खण्डवा
    3.
    हिमाचल प्रदेश
    2-मण्डी
     
    क्र. सं.
    राज्य
    निर्वाचन क्षेत्र की संख्या और नाम
    1.
    आंध्र प्रदेश
    124-बाडवेल (अ. जा.)
    2.
    असम
    28-गोस्साई गाँव
    3.
    असम
    41-भबानीपुर
    4.
    असम
    58-तमुलपुर
    5.
    असम
    101-मरियानी
    6.
    असम
    107-थोवरा
    7.
    बिहार
    78-कुशेश्वरस्थान (अ. जा.)
    8.
    बिहार
    164-तारापुर
    9.
    हरियाणा
    46-ऐलनाबाद
    10.
    हिमाचल प्रदेश
    08-फतेहपुर
    11.
    हिमाचल प्रदेश
    50-अर्की
    12.
    हिमाचल प्रदेश
    65-जुब्बल-कोटखाई
    13.
    कर्नाटक
    33-सिन्डगी
    14.
    कर्नाटक
    82-हानगल
    15.
    मध्य प्रदेश
    45-पृथ्वीपुर
    16.
    मध्य प्रदेश
    62-रैगाँव (अ. जा.)
    17.
    मध्य प्रदेश
    192-जोबट (अ. ज. जा.)
    18.
    महाराष्ट्र
    90-देगलुर (अ. जा.)
    19.
    मेघालय
    13-मावरेंगकेंग (अ. ज. जा.)
    20.
    मेघालय
    24-मावफलांग (अ. ज. जा.)
    21.
    मेघालय
    47-राजबाला
    22.
    मिजोरम
    4-तुईरिअल (अ. ज. जा.)
    23.
    नागालैंड
    58-शामटोर चेस्सोरे (अ. ज. जा.)
    24.
    राजस्थान
    155-वल्लभनगर
    25.
    राजस्थान
    157-धरियावद (अ. ज. जा.)
    26.
    तेलंगाना
    31-हुजूराबाद
    27.
    पश्चिम बंगाल
    7-दिनहाटा
    28.
    पश्चिम बंगाल
    86-सान्तिपुर
    29.
    पश्चिम बंगाल
    109-खारडाह
    30.
    पश्चिम बंगाल
    127-गोसाबा (अ. जा.)
           आयोग ने रिक्तियों को भरने के लिए इन उप-निर्वाचनों का आयोजन करवाने का निर्णय लिया है और धारा 30 के अधीन प्रावधानों के अनुसार लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा 30 (ग) के अंतर्गत मतदान के कार्यक्रमों की तारीखें तथा नाम वापिस लेने की तारीख निर्धारित की हैं। उप-निर्वाचन की अनुसूची निम्नानुसार हैः 
    अनुसूची 1: आंध्र प्रदेश, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, राजस्थान, तेलंगाना की विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र एवं दादरा और नागर हवेली तथा दमन और दीव संघ राज्य क्षेत्र, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश की संसदीय निर्वाचन क्षेत्र के लिए।
    मतदान कार्यक्रम
    अनुसूची 1
     
     
    राजपत्र अधिसूचना जारी होने की तारीख
    01.10.2021 (शुक्रवार)
    नाम-निर्देशन की अंतिम तारीख
    08.10.2021 (शुक्रवार)
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा की तारीख
    11.10.2021 (सोमवार)
    अभ्यर्थिताएं वापस लेने की अंतिम तारीख
    13.10.2021 (बुधवार)
    मतदान की तारीख
    30.10.2021 (शनिवार)
    मतगणना की तारीख
    02.11.2021 (मंगलवार)
    वह तारीख, जिसके पहले निर्वाचनों को संपन्न करा लिया जाएगा
    05.11.2021 (शुक्रवार)
     
    अनुसूची 2: असम, बिहार और पश्चिम बंगाल की विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए
    मतदान कार्यक्रम
    अनुसूची 2
     
     
    राजपत्र अधिसूचना जारी होने की तारीख
    01.10.2021  (शुक्रवार)
    नाम-निर्देशन की अंतिम तारीख
    08.10.2021 (शुक्रवार)
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा की तारीख
    11.10.2021 (सोमवार)
    अभ्यर्थिताएं वापस लेने की अंतिम तारीख
    16.10.2021 (शनिवार)
    मतदान की तारीख
    30.10.2021 (शनिवार)
    मतगणना की तारीख
    02.11.2021 (मंगलवार)
    वह तारीख, जिसके पहले निर्वाचनों को संपन्न करा लिया जाएगा
    05.11.2021 (शुक्रवार)
    1. निर्वाचक नामावली
    उपरोक्त विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए 01.01.2021 के संदर्भ में प्रकाशित निर्वाचक नामावली, इन निर्वाचनों के लिए प्रयोग में लाई जाएगी ।
    2. इलेक्ट्रॉनिक मतदान मशीन (ईवीएम) एवं वीवीपैट 
    आयोग ने उप-निर्वाचन में सभी मतदान केंद्रों में ईवीएम एवं वीवीपैट का उपयोग करने का निर्णय लिया है। ईवीएम एवं वीवीपैट पर्याप्त संख्या में उपलब्ध करा दी गई हैं और यह सुनिश्चित करने के लिए सभी कदम उठाए गए हैं कि इन मशीनों की सहायता से मतदानों का आयोजन सुचारु रूप से हो ।  
    3. मतदाताओं की पहचान 
    किसी मतदाता की पहचान के लिए निर्वाचक फोटो पहचान पत्र (एपिक) प्रमुख दस्तावेज होगा। हालांकि, मतदान केंद्र पर निम्नलिखित पहचान दस्तावेजों में से भी कोई भी दस्तावेज दिखाया जा सकता है:   
    i.      आधार कार्ड,
    ii.     मनरेगा जॉब कार्ड,
    iii.     बैंक/डाकघर द्वारा जारी फोटो सहित पासबुक,
    iv.     श्रम मंत्रालय की योजना के तहत जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड,
    v.     ड्राइविंग लाइसेंस,
    vi.     पैन कार्ड,
    vii.    राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के तहत भारत के महापंजीयक द्वारा जारी स्मार्ट कार्ड,
    viii.    भारतीय पासपोर्ट,
    ix.     फोटोग्राफ सहित पेंशन दस्तावेज,
    x.     केंद्रीय/राज्य सरकार/सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों/लिमिटेड कम्पनियों द्वारा कर्मचारियों को जारी     सेवा पहचान-पत्र, और
    xi.     संसद सदस्यों/विधान सभा सदस्यों/विधान परिषद सदस्यों को जारी आधिकारिक पहचान पत्र।                  
    4.  आदर्श आचार संहिता
    आयोग के अनुदेश सं. 437/6/आईएनएसटी/2016-सीसीएस, दिनांक 29 जून, 2017 (आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध) के तहत यथा-जारी आंशिक संशोधन के अध्यधीन आदर्श आचार संहिता उस जिले (जिलों) में तत्काल प्रभाव से लागू हो जाएगी जिसमें निर्वाचन होने वाले विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र का पूरा या कोई भाग शामिल हो।
     
    5. आपराधिक पूर्ववृत्त के बारे में सूचना
          आयोग ने आपराधिक पूर्ववृत्त के प्रचार के लिए समय सीमा निर्धारित की है, जो नाम वापस लेने की अंतिम तिथि के अगले दिन से शुरू होकर मतदान के समापन के लिए निर्धारित घंटे के समाप्त होने से 48 घंटे पहले तक है।
          इस मामले पर समेकित निर्देश आयोग की वेबसाइट पर निम्नलिखित हाइपरलिंक के तहत उपलब्ध है https://eci.gov.in/files/file/12265-broad-guidelines-of-election-commission-of-india-on-publicity-of-criminal-antecedents-by-political-parties-candidates/।
           यह ब्रजेश सिंह बनाम सुनील अरोड़ा और अन्य शीर्षक वाली वर्ष 2020 की अवमानना याचिका (सि) सं. 656 में माननीय उच्चतम न्यायालय के दिनांक 13.02.2020 और 10.08.2021 के निर्णय के क्रम में है, जिसे आयोग के दिनांक 26.08.2021 के पत्र के तहत राजनैतिक दलों को वितरित किया गया है। निर्णय के पैरा 73.V के अंतर्गत दिए गए निर्देश के अनुसरण में, अब, फॉर्मेट सी-7 राजनैतिक दलों द्वारा अभ्यर्थी के चयन के 48 घंटों के भीतर प्रकाशित किया जाना चाहिए न कि नामांकन दाखिल करने की प्रथम तारीख से दो सप्ताह पहले।
    आयोग ने आपराधिक पूर्ववृत्त के प्रचार के लिए निम्नलिखित समय सीमा निर्धारित की है, जो नाम वापस लेने की अंतिम तिथि के अगले दिन से शुरू होकर मतदान के समापन के लिए निर्धारित घंटे के समाप्त होने से 48 घंटे पहले तक है।
          इस मामले पर समेकित निर्देश आयोग की वेबसाइट पर निम्नलिखित हाइपरलिंक के तहत उपलब्ध है https://eci.gov.in/files/file/12265-broad-guidelines-of-election-commission-of-india-on-publicity-of-criminal-antecedents-by-political-parties-candidates/। 
    6.  कोविड-19 की अवधि के दौरान उप-निर्वाचनों/स्थगित निर्वाचनों के संचालन के दौरान पालन किए जाने वाले विस्तृत दिशा-निर्देश 
    आयोग ने 21 अगस्त, 2020 को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके अलावा, इसने दिनांक 09.10.2020, 09.04.2021, 16.04.2021, 21.04.2021, 22.04.2021, 23.04.2021 एवं 28.04.2021 को भी दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जो आयोग की वेबसाइट eci.gov.in या लिंक https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19/ पर उपलब्ध हैं। साथ ही, दिनांक 28 अगस्त, 2021 के पत्र सं. 40-3/2020-डीएम-I(ए), के तहत कोविड प्रबंधन के लिए लक्षित और त्वरित कार्रवाइयों को लागू करने के लिए गृह मंत्रालय द्वारा अनुदेशों को 30 सितम्बर, 2021 तक बढ़ा दिया गया है। राजनैतिक दलों/मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से इनपुट्स लेने के बाद और एमएचए/एमओएचएफडब्ल्यू के मौजूदा अनुदेशों को ध्यान में रखते हुए, आयोग ने इन दिशा-निर्देशों को और ज्यादा सख्त कर दिया है। इसके अलावा, कोविड-19 अवधि के दौरान पश्चिम बंगाल में साधारण निर्वाचन के संचालन से संबंधित आयोग के सभी अनुदेश, यथोचित परिवर्तन के साथ इन उप-निर्वाचनों/स्थगित निर्वाचनों के लिए भी लागू रहेंगे।         
    सभी स्टेकहोल्डर इन अनुदेशों का पालन करेंगे। संबंधित राज्य सरकार इन अनुदेशों के अनुपालन में निम्नानुसार सभी समुचित कार्रवाई/उपाय करेगी:- 
    1
    नाम-निर्देशन
    नाम-निर्देशन से पहले और बाद में, शोभायात्रा, जनसभा निषिद्ध है/रिटर्निंग अधिकारी के कार्यालय के 100 मीटर की परिधि क्षेत्र में केवल तीन वाहनों की अनुमति। नाम-निर्देशन के लिए किसी शोभायात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी।      
    2
    प्रचार अभियान अवधि
     
    (क) प्रचार के लिए सभा 
     
    (i) इंडोर 
    अनुमत क्षमता का 30% या 200 व्यक्ति, जो भी कम हो। सभा में उपस्थित होने वाले व्यक्तियों की संख्या की गणना करने के लिए एक रजिस्टर बनाया जाएगा। 
     
    (ii) बाह्य 
    प्रमुख (स्टार) प्रचारकों के मामले में क्षमता का 50% (कोविड-19 के दिशानिर्देशों के अनुसार) या 1000 और अन्य सभी मामलों में क्षमता का 50% या 500।  दोनों मामलों में अनुमत संख्या वही है, जो भी कम हो। संपूर्ण क्षेत्र की घेराबंदी की जाएगी और पुलिस द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाएगी। मैदान में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों की गणना का अनुवीक्षण किया जाएगा। घेराबंदी/बाड़बंदी का खर्च अभ्यर्थी/पार्टी द्वारा वहन किया जाएगा। रैलियों के लिए केवल वे ही मैदान प्रयोग में लाए जाएंगे, जिनकी पूरी घेराबंदी/बाड़बंदी है।      
     
    (ख) प्रमुख प्रचारक
    कोविड-19 महामारी के कारण इन उप-निर्वाचनों के लिए राष्ट्रीय/राज्यीय मान्यता प्राप्त दलों के प्रमुख (स्टार) प्रचारकों की संख्या 20 और गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत दलों के लिए 10 तक सीमित है।
     
    (ग) रोड शो
    किसी रोड शो की अनुमति नहीं दी जाएगी और किसी मोटर/बाइक/साइकिल रैलियों की अनुमति नहीं दी जाएगी।  
     
    (घ) नुक्कड़ सभा
    अधिकतम 50 व्यक्तियों को अनुमति दी जाएगी (स्थान की उपलब्धता एवं कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुपालन के अध्यधीन) 
     
    (ङ) घर-घर जाकर  प्रचार अभियान
    अभ्यर्थियों/उनके प्रतिनिधियों को शामिल करके 5 व्यक्तियों द्वारा घर-घर जाकर प्रचार।  
     
    (च) वीडियो वैन के माध्यम से प्रचार अभियान
    स्थान की उपलब्धता एवं कोविड-19 के दिशानिर्देशों के अनुपालन के अध्यधीन एक क्लस्टर स्थान में 50 से अधिक श्रोताओं को अनुमति नहीं दी जाएगी।  
     
    (ज) प्रचार अभियान के लिए वाहनों का प्रयोग
    अभ्यर्थी/राजनैतिक दल के लिए (स्टार प्रचारक के अतिरिक्त) कुल अनुमत वाहन:- 20 प्रति वाहन अधिकतम व्यक्तियों की संख्या, वाहन की क्षमता का 50% अनुमत्य।
    3
    प्रचार रहित अवधि
    प्रचार रहित अवधि मतदान समाप्ति से 72 घंटे पूर्व है। 
    4
    मतदान दिवस की गतिविधियां
    1. अधिकतम 2 वाहनों की अनुमति दी जाएगी और प्रत्येक वाहन पर 3 व्यक्ति होंगे। मौजूदा लागू दिशा-निर्देशों के अनुसार सुरक्षा।
    2. ईसीआई के दिशा-निर्देशों के अनुसार मतदान केंद्र पर मतदान दिवस की गतिविधियां।    
    5
    मतगणना दिवस
    भीड़ को रोकने के लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों को समुचित उपाय करने चाहिए। मतगणना के पूरे समय के दौरान सामाजिक दूरी बनाना और कोविड सुरक्षा संबंधी अन्य नयाचारों का सख्ती से अनुपालन किया जाना चाहिए। 
     7.     सक्षम प्राधिकारियों द्वारा जारी कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुसार ऐसी सभी गतिविधियों का सख्ती से अनुपालन किया जाएगा। कोविड-19 नयाचार के अनुसार, सामाजिक दूरी बनाना और मास्क, सैनीटाइज़र, थर्मल स्कैनिंग, फेस-शील्ड, दस्ताने इत्यादि के प्रयोग का अनुपालन किया जाना चाहिए। कोविड नयाचार अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए सभी निवारक और उपशमन उपायों के लिए एसडीएमए उत्तरदायी है। कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुवीक्षण, पर्यवेक्षण एवं अनुपालन के लिए मुख्य सचिव और महानिदेशक और जिला स्तरीय प्राधिकारी उत्तरदायी होंगे। 
    8.     यदि कोई अभ्यर्थी या राजनैतिक दल उपर्युक्त दिशा-निर्देशों में से किसी का भी उल्लंघन करता है तो संबंधित अभ्यर्थी/दल को रैलियों, सभाओं इत्यादि के लिए आगे कोई अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि कोई प्रमुख (स्टार) प्रचारक कोविड नयाचारों का उल्लंघन करता है तो उसे उस निर्वाचन क्षेत्र/जिले में आगे प्रचार करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।  
    9.     निर्वाचन ड्यूटी में लगे प्राइवेट व्यक्तियों सहित सभी मतदान कर्मियों और निर्वाचन अधिकारियों को अपनी सेवाएं देने से पहले दोनों टीके लगवाए जाएंगे। 
    10.    अभ्यर्थी/निर्वाचन एजेंट/मतदान एजेंट/मतगणना एजेंट/ड्राइवर इत्यादि, जो भी जनता या निर्वाचन अधिकारियों के संपर्क में आ रहा है, उसे दोनों टीके लगवाने होंगे। 
    11.    प्रत्येक मतदान केंद्र के लिए कोविड नोडल अधिकारी के रूप में एक स्वास्थ्य कर्मी नियुक्त किया जाना चाहिए। 
    12.    मुख्य सचिव/महानिदेशक और संबंधित जिलाधिकारी/पुलिस अधीक्षक यह सुनिश्चित करने के लिए कि मतदान पूर्व और मतदान के पश्चात मतदान संबंधी कोई हिंसा न हो, पर्याप्त निवारक उपाय करेंगे तथा आवश्यक व्यवस्था करेंगे। 
    13.    स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी एडवाइजरी के आलोक में, भारत निर्वाचन आयोग, मौजूदा परिस्थितियों पर पैनी नजर बनाए रखेगा और आगामी निर्वाचनों के लिए दिशों-निर्देशों को और सख्त कर सकता है। 

    93 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  17. भारत निर्वाचन आयोग ने सुगम निर्वाचनों पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया

    सं. ईसीआई/पीएन 82/2021                            
    दिनांकः 21 सितम्बर, 2021
     
    प्रेस नोट
    भारत निर्वाचन आयोग ने सुगम निर्वाचनों पर राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया;
    नीतिगत ढांचे को और सुप्रवाही बनाने की दिशा में चर्चा की गई 
    भारत निर्वाचन आयोग ने वर्तमान सुगमता नीतियों का आकलन करने और दिव्यांग मतदाताओं के लिए निर्वाचक प्रक्रिया में सहभागिता बढ़ाने के लिए बाधाओं को दूर करने के लिए कार्यनीतियों पर चर्चा करने के उद्देश्य से आज राष्ट्रीय वर्चुअल सुगम निर्वाचनों पर सम्मेलन, 2021 का आयोजन किया। इस वर्चुअल सम्मेलन में सुगम निर्वाचनों पर राष्ट्रीय सलाहकार समिति के सदस्यों, मुख्य निर्वाचन अधिकारियों, विभिन्न प्रकार की दिव्यांगता का प्रतिनिधित्व करने वाले सिविल सोसाइटी संगठनों और सरकारी मंत्रालयों तथा संस्थानों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया। 

    दिव्यांगजनों के लिए निर्वाचनों को और अधिक समावेशी, सुगम और मतदाता अनुकूल बनाने के लिए निर्वाचन आयोग की प्रतिबद्धता की पुनःपुष्टि करते हुए, मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री सुशील चंद्रा ने कहा कि आयोग प्राथमिक स्टेकहोल्डरों अर्थात दिव्यांगजनों सहित ऐसे मतदाता के निर्णय लेने की भूमिका का सम्मान करता है, जो निर्वाचक प्रक्रिया में मुख्य भूमिका निभा सकते हैं और जिन्हें निभानी चाहिए। मुख्य निर्वाचन आयुक्त (सीईसी) ने यह भी कहा कि निर्वाचक प्रक्रिया के प्रत्येक कदम पर समावेशिता और सुगमता बढ़ाने के लिए दिशा-निर्देश बनाते समय दिव्यांगजनों और उनके प्रतिनिधि संगठनों द्वारा सभी सार्थक जानकारियों और सुझाई गई सिफारिशों पर विचार-विमर्श किया जाता है। श्री चंद्रा ने निर्वाचकीय प्रक्रिया में दिव्यांगजनों के समावेशन पर जोर देने के विभिन्न अंतरराष्ट्रीय संकल्पों एवं अधिदेशों में भारत निर्वाचन आयोग की प्रतिबद्धता को दोहराया। उन्होंने दिव्यांगजनों के सुखद और गरिमापूर्ण मतदान अनुभव की जरूरत पर बल दिया। उन्होंने उल्लेख किया कि सभी मतदान केंद्र भूतल पर स्थित हैं और इन सभी में रैंप हैं तथा व्हीलचेयर और मतदान केंद्रों पर निर्बाध तथा बाधामुक्त निर्वाचन अनुभव के लिए पर्याप्त स्वयंसेवकों को तैनात किया जाता है। 
    निर्वाचन आयुक्त श्री राजीव कुमार ने कहा कि दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम, 2016 एक कानूनी अधिदेश प्रदान करता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि सभी मतदान केंद्रों को दिव्यांग व्यक्तियों के लिए सुलभ बनाया जाए और निर्वाचक प्रक्रिया से संबंधित सभी सामग्री उनके द्वारा आसानी से समझी जा सके और उपयोग की जा सके। उन्होंने यह भी कहा कि निर्वाचन अधिकारियों एवं सीएसओ स्टेकहोल्डरों के सामूहिक प्रयास ने विभिन्न जनसंख्या समूहों के लिए निर्वाचक प्रक्रिया को सुगम, सुरक्षित और सम्मानपूर्ण बनाने के अतिरिक्त, देश भर में बड़ी संख्या में दिव्यांग निर्वाचकों तक पहुचंने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। 
    निर्वाचन आयुक्त श्री अनूप चंद्र पांडेय ने उन्नत डाटा प्रसंस्करण, सामुदायिक अभिनिर्देश बिंदुओं को पहचानने और दिव्यांगजनों एवं वरिष्ठ नागरिकों जैसे विशिष्ट नागरिक समूहों के लिए सौहार्दपूर्ण इको प्रणालियों के सृजन के माध्यम से सामुदायिक सहायता प्रणाली को सुदृढ़ करने की आवश्यकता पर बल दिया। श्री पांडेय ने यह भी कहा कि सुगम निर्वाचन हमेशा से आयोग का एक प्रमुख क्षेत्र रहा है, जिसके द्वारा ईसीआई यह सुनिश्चित करते हुए कि पूरी निर्वाचन प्रक्रिया में सभी की समान पहुंच हो, विशेष रूप से सभी लक्षित समूहों को शामिल करने पर ध्यान केंद्रित करता है। 
    महासचिव श्री उमेश सिन्हा ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) ने इस सम्मेलन का आयोजन समयपूर्वक किया है, जब आयोग आगामी राज्य विधान सभा के निर्वाचनों की तैयारी में लगा हुआ है। विभिन्न सीईओ, सीएसओ और आयोग के आइकनों से प्राप्त इनपुटों को दिव्यांगजनों और वरिष्ठ नागरिकों के लिए अधिक सुगम, समावेशी और मतदाता अनुकूल बनाने के लिए निर्वाचनों की योजना एवं तैयारी में समाविष्ट किया जाएगा।

    यह सूचित किया गया था कि आज की तारीख तक लगभग 77.4 लाख दिव्यांजन पंजीकृत मतदाता हैं। यह मानते हुए कि एक मजबूत एवं जीवंत लोकतंत्र की स्थापना की आधारशिला समावेश और सहभागिता होती है, आज का विचार-विमर्श दिव्यांगजन की पहचान/मानचित्रण, सुगम पंजीकरण, मतदान केंद्रों पर सुविधाओं, सुगम निर्वाचनों के लिए प्रौद्योगिकी के दक्षतापूर्ण उपयोग, सुगम मतदाता शिक्षा तथा साझेदारी और सहयोग से लाभ उठाने और मीडिया आउटरीच के थीम पर केंद्रित था। निदेशक एएडीआई, कार्यपालक निदेशक, राष्ट्रीय बधिर संघ, निदेशक, एसपीएआरसी-इंडिया, कार्यपालक निदेशक, एनसीपीईडीपी, कार्यपालक निदेशक बीपीए, आईएसएलआरटीसी और पीडीयूएनआईपीपीडी के प्रतिनिधियों के साथ-साथ ईसीआई की राष्ट्रीय आइकन, डॉ. नीरू कुमार सहित विभिन्न सीएसओ के महत्वपूर्ण वक्ताओं ने निर्वाचन सुगम और समावेशी बनाने के लिए बहुमूल्य इनपुट साझा किए। 
    विभिन्न स्टेकहोल्डरों से प्राप्त सुझावों के आधार पर, भावी निर्वाचनों के लिए 'सुगम निर्वाचनों' पर नीतिगत ढांचे को सुप्रवाही बनाने के लिए आगे का मार्ग प्रशस्त करने हेतु एक संकल्प अंगीकार किया गया। व्यापक अनुवीक्षण तंत्र और सभी मतदान केंद्रों की सुगमता का आकलन; दिव्यांगजनों के लिए सभी मुख्यधारा संबंधी नीतियों और कार्यक्रमों का एकीकरण; निर्वाचन कर्मियों का प्रशिक्षण और संवेदीकरण; दिव्यांगता की समझ में सुधार के लिए अधिकाधिक जागरूकता; डाटा संग्रह के तात्कालिक तरीके; दिव्यांगजनों के लिए डाक मतपत्र की सुविधा के बारे में जागरूकता; मजबूत आईवीआरएस हेल्पलाइन एवं ऑनलाइन शिकायत निवारण तंत्र और निर्वाचन प्रक्रिया के सभी स्तरों पर सुगमता सुनिश्चित करने के लिए सुगमता प्रेक्षकों और सूक्ष्म प्रेक्षकों की तैनाती, कुक्ष ऐसे विचार थे जिसकी इस वर्चुअल सम्मेलन के दौरान चर्चा की गई। 
    सम्मेलन के दौरान, मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री सुशील चंद्रा ने निर्वाचन आयुक्तों श्री राजीव कुमार एवं श्री अनूप चंद्र पांडेय के साथ निम्नलिखित का विमोचन किया;
    बाधाओं को पार करना-सुगमता पहल, 2021: यह पुस्तिका दिव्यांग मतदाताओं को सुविधा देने और सशक्त बनाने के लिए नवोन्मेषी प्रथाओं और सुगमता पहल का संकलन है। हाल ही में शुरू की गई पहल जैसे मतदाता गाइड, नए मतदाता को पत्र और मतदाता जागरूकता पर 50 प्रेरक गीतों की एक गीत पुस्तिका का ब्रेल भाषा संस्करण। मतदाता हेल्पलाइन एप और ईवीएम-वीवीपैट के दो जागरूकता वीडियो के सांकेतिक भाषा में संस्करण। साधारण विधान सभा निर्वाचन, 2018 और लोकसभा निर्वाचन, 2019 में दिव्यांगजनों को कर्नाटक में प्रदान की गई स्वीप गतिविधियों और सुविधाओं के परिणामों के मूल्यांकन अध्ययन का भी आयोग द्वारा विमोचन किया गया था।  
    हाल ही में हुए मतदान संपन्न हुए राज्यों से सीख और अनुभवों सहित निर्वाचन आयोग द्वारा अब तक की गई सुगम्यता संबंधी पहल पर एक प्रस्तुति भी प्रतिभागियों के साथ साझा की गई। इस सम्मेलन में दिव्यांग प्रतिभागियों के लिए सम्मेलन को सुलभ बनाने हेतु समर्पित सांकेतिक भाषा दुभाषिए थे।

    86 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  18. भारत निर्वाचन आयोग में हिंदी दिवस समारोह 2021 का आयोजन

    सं.. ईसीआई/पीएन/81/2021                             
    दिनांक :  14 सितम्बर, 2021
    प्रेस नोट 
    भारत निर्वाचन आयोग में हिंदी दिवस समारोह 2021 का आयोजन 
    भारत निर्वाचन आयोग में आज दिनांक 14.09.2021 को अपराह्न 4:00 बजे माननीय आयोग की अध्यक्षता में हिंदी दिवस समारोह का आयोजन किया गया। माननीय मुख्य निर्वाचन आयुक्त, श्री सुशील चंद्रा, निर्वाचन आयुक्त, श्री राजीव कुमार और निर्वाचन आयुक्त, श्री अनूप चंद्र पाण्डेय ने इस अवसर पर 'राजभाषा स्मारिका', आयोग की इन-हाउस त्रैमासिक हिंदी पत्रिका- 'महत्वपूर्ण है मत मेरा' और 'एटलस 2019' (हिंदी संस्करण) का विमोचन किया। साथ ही, आयोग के कर-कमलों से आरटीआई पोर्टल के हिंदी रूप का लोकार्पण भी किया गया। 

    2.     उल्लेखनीय है कि भारत निर्वाचन आयोग में 01 सितम्बर, 2021 से लेकर 14 सितम्बर, 2021 तक हिंदी पखवाड़ा का आयोजन किया गया। पखवाड़े के अवसर पर विभिन्न प्रकार की प्रतियोगिताएं, टिप्पण एवं प्रारूपण प्रतियोगिता, हिंदी निबंध प्रतियोगिता, हिंदी टंकण प्रतियोगिता, हिंदी कविता पाठ प्रतियोगिता एवं एमटीएस कर्मचारियों के लिए श्रुतलेख एवं सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता आयोजित की गईं जिनमें आयोग के स्टॉफ सदस्यों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। 
    3.     इस अवसर पर प्रतिभागियों का मनोबल बढ़ाते हुए मुख्य निर्वाचन आयुक्त, श्री सुशील चंद्रा ने कहा कि केवल पखवाड़े में ही हिंदी में काम न करें, अपितु बाकी दिनों में भी अपने प्रशासनिक कार्य हिंदी में करने की शुरुआत करें। उन्होंने राजभाषा स्मारिका प्रकाशित करने के लिए आयोग के राजभाषा डिवीजन की सराहना की और कहा कि इस तरह के प्रकाशन त्रैमासिक आधार पर नियमित रूप में प्रकाशित किए जाएं। इस अवसर पर अपने संबोधन में श्री निर्वाचन आयुक्त, श्री राजीव कुमार ने कहा कि इसे वार्षिक अनुष्ठान न बनाएं और उन्होंने हिंदी का यशगान करते हुए हिंदी की महत्ता बतलाने वाली अपनी एक स्वरचित कविता भी पढ़कर सुनाई। इस अवसर पर बोलते हुए माननीय निर्वाचन आयुक्त, श्री अनूप चंद्र पाण्डेय ने कहा, "अंग्रेजी में बोलना कोई गौरव का प्रतीक नहीं है।" उन्होंने यह भी कहा कि हिंदी लिंग्वा इंडिका बन गई है और भारत में यह सम्पर्क भाषा के रूप में काम कर रही है। उन्होंने कहा कि हिंदी में काम करने की शुरुआत हस्ताक्षर करके करें।  

     4.     आयोग के इस हिंदी दिवस समारोह में हिंदी प्रतियोगिताओं के विजेता प्रतिभागियों को माननीय आयोग के कर-कमलों से प्रशस्ति पत्र एवं पुरस्कार प्रदान किए

    60 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  19. विधान सभा के सदस्यों (एमएलए) द्वारा बिहार विधान परिषद के लिए उप-निर्वाचन-तत्संबंधी

    सं. ईसीआई/पीएन/80/2021
    दिनांकः 09 सितम्बर, 2021
    प्रेस नोट
     
    विषय: विधान सभा के सदस्यों (एमएलए) द्वारा बिहार विधान परिषद के लिए उप-निर्वाचन-तत्संबंधी        
    बिहार विधान परिषद में विधान सभा के सदस्यों द्वारा भरने के लिए एक आकस्मिक रिक्ति है। रिक्ति का विवरण निम्नलिखित प्रकार से है:- 
    क्र. सं.
    सदस्य का नाम
    निर्वाचन की प्रकृति
    रिक्ति की तारीख और कारण
    की अवधि तक
    1.
    श्री तनवीर अख्तर
    एमएलए द्वारा
    09.05.2021 को देहांत
    21.07.2022
    2.     आयोग ने उपर्युक्त रिक्ति को भरने के लिए विधान सभा के सदस्यों द्वारा बिहार विधान परिषद के लिए उप-निर्वाचन को निम्न कार्यक्रम के अनुसार आयोजित करने का निर्णय लिया है:-  
    क्र.सं.
    कार्यक्रम
    दिनांक
    1.
    अधिसूचना जारी करना
    15 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    2.
    नाम-निर्देशन करने की अंतिम तिथि
    22 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    3.
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा
    23 सितम्बर, 2021 (गुरुवार)
    4.
    अभ्यर्थिताएं वापिस लेने की अंतिम तारीख
    27 सितम्बर, 2021 (सोमवार)
    5.
    मतदान की तिथि
    04 अक्तूबर, 2021 (सोमवार)
    6.
    मतदान का समय
    पूर्वा. 9.00 बजे-अप. 4.00 बजे तक
    7.
    मतगणना
    4 अक्तूबर, 2021 (सोमवार) सायं 5.00 बजे 
    8.
    वह तारीख, जिससे पहले निर्वाचन पूरा हो जाएगा
    06 अक्तूबर, 2021 (बुधवार)
    3.     सभी व्यक्तियों के लिए पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) द्वारा पहले ही जारी किए गए कोविड-19 के व्यापक दिशा-निर्देश के साथ-साथ ईसीआई द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट, दिनांक 04.09.2021 जो लिंक https://eci.gov.in/files/file/13681-schedule-to-fill-casual-vacancy-and-adjourned-poll-in-the-assembly-constituencies-regarding/ पर उपलब्ध है के पैरा 13 में निहित हाल ही के दिशानिर्देश, जहां कहीं भी लागू हो, का अनुपालन किया जाए।
    4.     मुख्य सचिव, बिहार को निर्वाचन के संचालन की व्यवस्था करते समय कोविड-19 कंटेनमेंट उपायों के संबंध में मौजूदा निदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करने हेतु राज्य से एक वरिष्ठ अधिकारी को नियुक्त करने के लिए निर्देश दिया जा रहा है।  

    28 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  20. विभिन्न राज्यों से राज्य सभा के लिए उप निर्वाचन-तत्संबंधी।   

    सं. ईसीआई/पीएन/79/2021
    दिनांकः 09 सितम्बर, 2021
    प्रेस नोट
    विषय: विभिन्न राज्यों से राज्य सभा के लिए उप निर्वाचन-तत्संबंधी।        
    राज्य सभा में नीचे दिए गए विवरणों के अनुसार विभिन्न राज्यों से छह आकस्मिक रिक्तियां हैं:-
    राज्य
    सदस्य का नाम
    रिक्ति का कारण
    रिक्ति की तारीख
    की अवधि तक
    पश्चिम बंगाल
    श्री मानस रंजन भुनिया
    त्यागपत्र
    06.05.2021
    18.08.2023
    असम
    श्री बिस्वजीत दायमरी
    त्यागपत्र
    10.05.2021
    09.04.2026
    तमिलनाडु
    थिरू. के.पी. मुनुस्वामी
    त्यागपत्र
    07.05.2021
    02.04.2026
    तमिलनाडु
    थिरू. आर. वैथिलिंगम
    त्यागपत्र
    07.05.2021
    29.06.2022
    महाराष्ट्र
    श्री राजीव शंकरराव सातव
    देहांत
    16.05.2021
    02.04.2026
    मध्य प्रदेश
    श्री थावरचंद गहलोत
    त्यागपत्र
    07.07.2021
    02.04.2024
     2.     आयोग ने उपर्युक्त रिक्त स्थान को भरने के लिए ऊपर उल्लिखित राज्यों से राज्य सभा के छह उप-निर्वाचनों को निम्न कार्यक्रम के अनुसार आयोजित करने का निर्णय लिया है:- 
    क्र.सं.
    कार्यक्रम
    दिनांक
    1.
    अधिसूचना जारी करना
    15 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    2.
    नाम-निर्देशन करने की अंतिम तिथि
    22 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    3.
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा
    23 सितम्बर, 2021 (गुरुवार)
    4.
    अभ्यर्थिताएं वापिस लेने की अंतिम तारीख
    27 सितम्बर, 2021 (सोमवार)
    5.
    मतदान की तिथि
    04 अक्तूबर, 2021 (सोमवार)
    6.
    मतदान का समय
    पूर्वा. 9.00 बजे-अप. 4.00 बजे तक
    7.
    मतगणना
    4 अक्तूबर, 2021 (सोमवार) सायं 5.00 बजे 
    8.
    वह तारीख, जिससे पहले निर्वाचन पूरा हो जाएगा
    06 अक्तूबर, 2021 (बुधवार)
     5.     सभी व्यक्तियों के लिए पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) द्वारा पहले ही जारी किए गए कोविड-19 के व्यापक दिशा-निर्देश के साथ-साथ ईसीआई द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट, दिनांक 04.09.2021 जो लिंक https://eci.gov.in/files/file/13681-schedule-to-fill-casual-vacancy-and-adjourned-poll-in-the-assembly-constituencies-regarding/ पर उपलब्ध है के पैरा 13 में निहित हाल ही के दिशानिर्देश, जहां कहीं भी लागू हो, का अनुपालन किया जाए। 
    6.     निर्वाचन के संचालन की व्यवस्था करते समय कोविड-19 कंटेनमेंट उपायों के संबंध में मौजूदा निदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करने हेतु राज्य से एक वरिष्ठ अधिकारी को नियुक्त करने के लिए संबंधित मुख्य सचिवों को निर्देश दिया जा रहा है।  

    32 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  21. दिनांक 06.10.2021 को सेवानिवृत्त हो रहे सदस्य की सीट को भरने के लिए पुडुचेरी संघ राज्य क्षेत्र से राज्य सभा का द्विवार्षिक निर्वाचन-तत्संबंधी 

    सं. ईसीआई/पीएन/78/2021
     दिनांकः 09 सितम्बर, 2021
    प्रेस नोट 
    विषय: दिनांक 06.10.2021 को सेवानिवृत्त हो रहे सदस्य की सीट को भरने के लिए पुडुचेरी संघ राज्य क्षेत्र से राज्य सभा का द्विवार्षिक निर्वाचन-तत्संबंधी               
    पुडुचेरी संघ राज्य क्षेत्र से राज्य सभा के लिए निर्वाचित 01 सदस्य का कार्यकाल उनके सेवानिवृत्त होने को कारण अक्तूबर, 2021 में समाप्त हो रहा है जिसका विवरण निम्नानुसार है:-
    संघ राज्य क्षेत्र का नाम
    सदस्य का नाम
    सेवानिवृत्ति की तारीख
    पुडुचेरी
    श्री एन. गोकुलकृष्णन
    06.10.2021
    2.     आयोग ने उपर्युक्त रिक्ति को भरने के लिए पुडुचेरी संघ राज्य क्षेत्र से राज्य सभा के द्विवार्षिक निर्वाचन को निम्न कार्यक्रम के अनुसार आयोजित करने का निर्णय लिया है:- 
    क्र.सं.
    कार्यक्रम
    दिनांक और दिन
    1.
    अधिसूचना जारी करना
    15 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    2.
    नाम-निर्देशन करने की अंतिम तिथि
    22 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    3.
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा
    23 सितम्बर, 2021 (गुरुवार)
    4.
    अभ्यर्थिताएं वापिस लेने की अंतिम तारीख
    27 सितम्बर, 2021 (सोमवार)
    5.
    मतदान की तिथि
    04 अक्तूबर, 2021 (सोमवार)
    6.
    मतदान का समय
    पूर्वा. 9.00 बजे-अप. 4.00 बजे तक
    7.
    मतगणना
    4 अक्तूबर, 2021 (सोमवार) सायं 5.00 बजे 
    8.
    वह तारीख, जिससे पहले निर्वाचन पूरा हो जाएगा
    06 अक्तूबर, 2021 (बुधवार)
     5.     सभी व्यक्तियों के लिए पूरी निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) द्वारा पहले ही जारी किए गए कोविड-19 के व्यापक दिशा-निर्देश के साथ-साथ ईसीआई द्वारा जारी किए गए प्रेस नोट, दिनांक 04.09.2021 जो लिंक https://eci.gov.in/files/file/13681-schedule-to-fill-casual-vacancy-and-adjourned-poll-in-the-assembly-constituencies-regarding/ पर उपलब्ध है के पैरा 13 में निहित हाल ही के दिशानिर्देश, जहां कहीं भी लागू हो, का अनुपालन किया जाए। 
      6.     मुख्य सचिव, पुडुचेरी सरकार को उपर्युक्त द्विवार्षिक निर्वाचन के संचालन की व्यवस्था करते समय कोविड-19 कंटेनमेंट उपायों के संबंध में मौजूदा निदेशों का अनुपालन सुनिश्चित करने हेतु संघ राज्य क्षेत्र से एक वरिष्ठ अधिकारी को नियुक्त करने के लिए निर्देश दिया जा रहा है।  

    39 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  22. विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में आकस्मिक रिक्ति को भरने और स्थगित मतदान हेतु कार्यक्रम-तत्संबंधी।

    सं. ईसीआई/पीएन/77/2021                                                
    दिनांक: 04.09.2021
    प्रेस नोट
    विषय: विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में आकस्मिक रिक्ति को भरने और स्थगित मतदान हेतु कार्यक्रम-तत्संबंधी।   
           आयोग ने दिनांक 3 मई, 2021 के प्रेस नोट संख्या ईसीआई/पीएन/61/2021 के तहत स्थगित मतदान (जो 16.05.2021 को होना नियत था) को आस्थगित कर दिया और एनडीएमए/एसडीएमए द्वारा यथानिर्गत आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत लॉकडाउन/प्रतिबंधों को ध्यान में रखते हुए ओडिशा के 110-पिपली विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र (एसी) एवं पश्चिम बंगाल के 58-जंगीपुर एवं 56-समसेरगंज विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों के निर्वाचनों की अवधि आगे बढ़ा दी गई। इसके अलावा, सभी वस्तुगत तथ्यों और महामारी को देखते हुए विभिन्न राज्यों/संघ राज्य क्षेत्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से मिले इनपुट्स को ध्यान में रख कर आयोग ने दिनांक 5 मई, 2021 के प्रेस नोट संख्या ईसीआई/पीएन/64/2021 के तहत विभिन्न राज्यों/संघ राज्य क्षेत्र में उप-निर्वाचनों को आस्थगित कर दिया। 
    2.    आज की तारीख में तीन आस्थगित स्थगित मतदान हैं (पश्चिम बंगाल राज्य में दो और ओडिशा राज्य में एक), संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में तीन रिक्तियां और विभिन्न राज्यों/संघ राज्य क्षेत्र की विधान सभाओं में 32 रिक्तियां हैं। 
    3.    विभिन्न राज्यों/संघ राज्य क्षेत्र में उप-निर्वाचन कराने की व्यवहार्यता का पता लगाने के लिए, दिनांक  01.09.2021 को संबंधित राज्यों/संघ राज्य क्षेत्र के मुख्य सचिवों, स्वास्थ्य एवं गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों, पुलिस महानिदेशकों और संबंधित राज्यों/संघ राज्य क्षेत्र के मुख्य निर्वाचन अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेस के माध्यम से एक बैठक की गई। मुख्य सचिवों/मुख्य निर्वाचन अधिकारियों ने कोविड-19 महामारी, बाढ़ की स्थिति और निकट भविष्य के त्यौहारों इत्यादि के मद्देनज़र अपने-अपने राज्यों/संघ राज्य क्षेत्र में उप-निर्वाचन आयोजित करवाने में अपने इनपुट्स, बाधाओं, मुद्दों और चुनौतियों को साझा किया। मतदान वाले संबंद्ध राज्यों से संबंधित मुख्य सचिवों ने भी अपने विचार और इनपुट्स लिखित में भेजे हैं। 
    4.    आंध्र प्रदेश, असम, बिहार, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, मेघालय, राजस्थान, तेलंगाना, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश राज्यों के मुख्य सचिव और संघ राज्य क्षेत्र दादरा नागर हवेली और दमन और दीव के सलाहकार, बाढ़ की परिस्थितियों, त्यौहारों और महामारी से संबंधित बाधाओं को आयोग के संज्ञान में लाए। उन्होंने सुझाव दिया कि उप-निर्वाचनों को त्यौहारों के खत्म होने के बाद में कराया जाना उचित होगा।
    5.    इनके अलावा, कुछ राज्य आयोग के संज्ञान में यह भी लाए हैं कि, भारत सरकार, विभिन्न शोध संस्थानों, तकनीकी विशेषज्ञ समितियों और पेशेवरों ने अक्तूबर से कोविड-19 की तीसरी लहर के आने की संभावना की भविष्यवाणी की है। गृह मंत्रालय ने भी दिनांक 28 अगस्त, 2021 को कोविड-19 से बचाव के लिए विस्तृत अनुदेश जारी किए।    
    6.    मुख्य सचिव, ओडिशा ने भी सूचित किया कि कोविड की स्थिति नियंत्रण में है और मतदान कराया जा सकता  है। मुख्य सचिव, पश्चिम बंगाल ने सूचित किया कि कोविड-19 की स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। वे यह भी संज्ञान में लाए कि राज्य में बाढ़ की स्थिति ने मतदान करवाए जाने वाले विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों को प्रभावित नहीं किया है और राज्य निर्वाचन कराने के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने यह भी कहा कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 164(4) के तहत, कोई मंत्री, जो लगातार छह महीनों तक राज्य विधानमंडल का सदस्य नहीं है, वह उस अवधि के समाप्त होने पर मंत्री नहीं रहेगा/रहेगी और इससे एक संवैधानिक संकट और सरकार में उच्च कार्यपालक पदों में शून्यता आ जाएगी जब तक कि तत्काल निर्वाचन न कराए जाएं। उन्होंने यह भी सूचित किया है कि प्रशासनिक आवश्यकताओं और लोकहित के मद्देनजर और राज्य में शून्यता की स्थिति से बचने के लिए 159- भबानीपुर, कोलकाता, जहां से सुश्री ममता बनर्जी, मुख्यमंत्री निर्वाचन लड़ने वाली हैं, में उप-निर्वाचन कराया जा सकता है।     
    7.    संबंधित राज्यों के मुख्य सचिवों और संबंधित मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से मिले इनपुट्स और विचारों को ध्यान में रखने के बाद, हालांकि आयोग ने अन्य 31 विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों और 3 संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में उप-निर्वाचन नहीं कराने का निर्णय लिया है तथापि संवैधानिक अत्यावश्यकता और पश्चिम बंगाल राज्य से मिले विशेष अनुरोध पर विचार करके, 159-भवानीपुर, कोलकाता विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र में निर्वाचन कराने का  निर्णय लिया गया है। आयोग द्वारा कोविड-19 महामारी से सुरक्षा के लिए पूर्ण सावधानी के रूप में पहले से ज्यादा सख्त मानक बनाए गए हैं। उप-निर्वाचन हेतु कार्यक्रम अनुबंध-1 में संलग्न है।  
    8.    इसके अलावा, आयोग ने 3 विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों, नामत: पश्चिम बंगाल के 56-समसेरगंज, 58-जंगीपुर और ओडिशा के एक विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र 110-पिपली, जहां आयोग की 4 मई, 2021 की अधिसूचना के तहत स्थगित मतदान को आस्थगित कर दिया गया था, में अनुबंध-2 में दिए गए कार्यक्रम के अनुसार मतदान कराने का निर्णय लिया है। इस संबंध में अलग-अलग अधिसूचनाएं जारी की जा रही हैं।  
    इन तीनों (3) विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए अभ्यर्थी/राजनैतिक दलों ने दिनांक 29.04.2021 से 03.05.2021 तक की प्रचार अभियान अवधि का पहले ही लाभ उठा चुके हैं। इसके मद्देनज़र, आयोग ने अब इन विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों में केवल 20.09.2021 से प्रचार अभियान चलाने की अनुमति देने का निर्णय ले लिया है।  
    9. निर्वाचक नामावली
    यथोक्त विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए 01.01.2021 के संदर्भ में प्रकाशित निर्वाचक नामावली इन निर्वाचनों के लिए प्रयोग में लाई जाएगी ।
    10. इलेक्ट्रॉनिक मतदान मशीन (ईवीएम) एवं वीवीपैट 
    आयोग ने उप-निर्वाचन में सभी मतदान केंद्रों में ईवीएम एवं वीवीपैट का उपयोग करने का निर्णय लिया है। ईवीएम एवं वीवीपैट पर्याप्त संख्या में उपलब्ध करा दी गई हैं और मशीनों की सहायता से मतदानों का आयोजन सुचारु रूप से हो सुनिश्चित करवाने के लिए सभी कदम उठाए गए हैं। 
    11. मतदाताओं की पहचान  
    किसी मतदाता की पहचान के लिए निर्वाचक फोटो पहचान पत्र (ईपीआईसी) प्रमुख दस्तावेज होगा। बहरहाल, मतदान केंद्र पर निम्नलिखित पहचान दस्तावेजों में से भी कोई भी दस्तावेज दिखाया जा सकता है:   
    i.      आधार कार्ड,
    ii.     मनरेगा जॉब कार्ड,
    iii.     बैंक/डाकघर द्वारा जारी फोटो सहित पासबुक,
    iv.     श्रम मंत्रालय की योजना के तहत जारी स्वास्थ्य बीमा स्मार्ट कार्ड,
    v.     ड्राइविंग लाइसेंस,
    vi.     पैन कार्ड,
    vii.    राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर के तहत भारत के महापंजीयक द्वारा जारी स्मार्ट कार्ड,
    viii.    भारतीय पासपोर्ट,
    ix.     फोटोग्राफ सहित पेंशन दस्तावेज,
    x.     केंद्रीय/राज्य सरकार/सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों/लिमिटेड कम्पनियों द्वारा कर्मचारियों को जारी  सेवा पहचान-पत्र, और
    xi.     संसद सदस्यों/विधान सभा सदस्यों/विधान परिषद सदस्यों को जारी आधिकारिक पहचान पत्र।                  
    12.  आदर्श आचार संहिता
    आयोग के अनुदेश सं. 437/6/आईएनएसटी/2016-सीसीएस, दिनांक 29 जून, 2017 (आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध) के तहत यथा-जारी आंशिक संशोधन अध्यधीन आदर्श आचार संहिता 04.09.2021 से उस जिले (जिलों) में तत्काल प्रभाव से लागू हो जाएगी जिसमें निर्वाचन होने वाले विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र का पूरा या कोई भाग शामिल हो।
     
    13.  कोविड-19 की अवधि के दौरान उप-निर्वाचनों / स्थगित निर्वाचनों के संचालन के दौरान पालन किए जाने वाले विस्तृत दिशा-निर्देश
    आयोग ने 21 अगस्त, 2020 को विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसके अलावा, इसने दिनांक 09.10.2020, 09.04.2021, 16.04.2021, 21.04.2021, 22.04.2021, 23.04.2021 एवं 28.04.2021 को भी दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जो आयोग की वेबसाइट eci.gov.in or link https://eci.gov.in/candidate-political-parties/instructions-on-covid-19/ पर उपलब्ध हैं। साथ ही, दिनांक 28 अगस्त, 2021 के पत्र सं. 40-3/2020-डीएम-I(क), के तहत कोविड प्रबंधन के लिए लक्षित और त्वरित कार्रवाइयों को लागू करने के लिए गृह मंत्रालय द्वारा अनुदेशों को 30 सितम्बर, 2021 तक बढ़ा दिया गया है। राजनैतिक दलों/मुख्य निर्वाचन अधिकारियों से इनपुट्स लेने के बाद और एमएचए/एमओएचएफडब्ल्यू के मौजूदा अनुदेशों को ध्यान में रखते हुए, आयोग ने इन दिशा-निर्देशों को और ज्यादा सख्त कर दिया है। इसके अलावा, कोविड-19 अवधि के दौरान पश्चिम बंगाल में साधारण निर्वाचन के संचालन से संबंधित आयोग के सभी अनुदेश, यथोचित परिवर्तन के साथ इन उप-निर्वाचनों/स्थगित निर्वाचनों के लिए भी लागू रहेंगे।  
    सभी स्टेकहोल्डर इन अनुदेशों का पालन करेंगे। संबंधित राज्य सरकार इन अनुदेशों के अनुपालन में निम्नानुसार सभी समुचित कार्रवाई/उपाय करेगी:- 
    1
    नाम-निर्देशन
    नाम-निर्देशन से पहले और बाद में, शोभायात्रा, जनसभा निषिद्ध है/रिटर्निंग अधिकारी के कार्यालय के 100 मीटर की परिधि क्षेत्र में केवल तीन वाहनों की अनुमति। नाम-निर्देशन के लिए किसी शोभायात्रा की अनुमति नहीं दी जाएगी।      
    2
    प्रचार अभियान अवधि
     
    (क) प्रचार के लिए सभा 
     
    (i) इनडोर  
    अनुमत क्षमता का 30% या 200 व्यक्ति, जो भी कम हो। सभा में उपस्थित होने वाले व्यक्तियों की संख्या की गणना करने के लिए एक रजिस्टर बनाया जाएगा।  
     
    (ii) बाह्य  
    प्रमुख (स्टार) प्रचारकों के मामले में क्षमता का 50% (कोविड-19 के दिशानिर्देशों के अनुसार) या 1000 और अन्य सभी मामलों में क्षमता का 50% या 500।  दोनों मामलों में अनुमत संख्या वही है, जो भी कम हो। संपूर्ण क्षेत्र की घेराबंदी की जाएगी और पुलिस द्वारा सुरक्षा प्रदान की जाएगी। मैदान में प्रवेश करने वाले व्यक्तियों की गणना का अनुवीक्षण किया जाएगा। घेराबंदी/बाड़बंदी का खर्च अभ्यर्थी/पार्टी द्वारा वहन किया जाएगा। रैलियों के लिए केवल वे ही मैदान प्रयोग में लाए जाएंगे जिनकी पूरी घेराबंदी/बाड़बंदी है।       
     
    (ख) प्रमुख प्रचारक
    कोविड-19 महामारी के कारण इन उप-निर्वाचनों के लिए राष्ट्रीय/राज्यीय मान्यता प्राप्त दलों के प्रमुख (स्टार) प्रचारकों की संख्या 20 और गैर मान्यता प्राप्त पंजीकृत दलों के लिए 10 तक सीमित है।
     
    (ग) रोड शो
    किसी रोड शो की अनुमति नहीं दी जाएगी और किसी मोटर/बाइक/साइकिल रैलियों की अनुमति नहीं दी जाएगी।   
     
    (घ) नुक्कड़ सभा
    अधिकतम 50 व्यक्तियों को अनुमति दी जाएगी (स्थान की उपलब्धता एवं कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुपालन के अध्यधीन) 
     
    (ङ) घर-घर जाकर  प्रचार अभियान
    अभ्यर्थियों/उनके प्रतिनिधियों को शामिल करके 5 व्यक्तियों द्वारा घर-घर जाकर प्रचार।  
     
    (च) वीडियो वैन के माध्यम से प्रचार अभियान
    स्थान की उपलब्धता एवं कोविड-19 के दिशानिर्देशों के अनुपालन के अध्यधीन एक क्लस्टर स्थान में 50 से अधिक श्रोताओं को अनुमति नहीं दी जाएगी।   
     
    (ज) प्रचार अभियान के लिए वाहनों का प्रयोग
    अभ्यर्थी/राजनैतिक दल के लिए (स्टार प्रचारक के अतिरिक्त) कुल अनुमत वाहन:- 20 प्रति वाहन अधिकतम व्यक्तियों की संख्या, वाहन की क्षमता का 50% अनुमत्य।
    3
    प्रचार रहित अवधि
    प्रचार रहित अवधि है मतदान समाप्ति से 72 घंटे पूर्व। 
     
    4
    मतदान दिवस की गतिविधियां
    1. अधिकतम 2 वाहनों की अनुमति दी जाएगी और प्रत्येक वाहन पर 3 व्यक्ति होंगे। मौजूदा लागू दिशा-निर्देशों के अनुसार सुरक्षा।
    2. ईसीआई के दिशा-निर्देशों के अनुसार मतदान केंद्र पर मतदान दिवस की गतिविधियां।     
    5
    मतगणना दिवस
    भीड़ को रोकने के लिए जिला निर्वाचन अधिकारियों को समुचित उपाय करने चाहिए। मतगणना के पूरे समय के दौरान सामाजिक दूरी बनाना और कोविड सुरक्षा संबंधी अन्य नयाचारों का सख्ती से अनुपालन किया जाना चाहिए।  
     
    6.     सक्षम प्राधिकारियों द्वारा जारी कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुसार ऐसी सभी गतिविधियों का सख्ती से अनुपालन किया जाएगा। कोविड-19 नयाचार के अनुसार, सामाजिक दूरी बनाना और मास्क, सैनीटाइज़र, थर्मल स्कैनिंग, फेस-शील्ड, दस्ताने इत्यादि के प्रयोग का अनुपालन किया जाना चाहिए। कोविड नयाचार अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए सभी निवारक और उपशमन उपायों के लिए एसडीएमए उत्तरदायी है। कोविड-19 के दिशा-निर्देशों के अनुवीक्षण, पर्यवेक्षण एवं अनुपालन के लिए मुख्य सचिव और महानिदेशक और जिला स्तरीय प्राधिकारी उत्तरदायी होंगे।
    7.     यदि कोई अभ्यर्थी या राजनैतिक दल उपर्युक्त दिशा-निर्देशों में से किसी का भी उल्लंघन करता है तो संबंधित अभ्यर्थी/दल को रैलियों, सभाओं इत्यादि के लिए आगे कोई अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि कोई  प्रमुख (स्टार) प्रचारक कोविड नयाचारों का उल्लंघन करता है तो उसे उस निर्वाचन क्षेत्र/जिले में आगे प्रचार करने की अनुमति नहीं दी जाएगी।  
    8.     निर्वाचन ड्यूटी में लगे प्राइवेट व्यक्तियों सहित सभी मतदान कर्मियों और निर्वाचन अधिकारियों को अपनी सेवाएं देने से पहले दोनों टीके लगवाए जाएंगे।
    9.     अभ्यर्थी/निर्वाचन एजेंट/मतदान एजेंट/मतगणना एजेंट/ड्राइवर इत्यादि, जो भी जनता या निर्वाचन अधिकारियों के संपर्क में आ रहा है, उसे दोनों टीके लगवाने होंगे।
    10.    प्रत्येक मतदान केंद्र के लिए कोविड नोडल अधिकारी के रूप में एक स्वास्थ्य कर्मी नियुक्त किया जाना चाहिए।  
    11.    मुख्य सचिव/महानिदेशक और संबंधित जिलाधिकारी/पुलिस अधीक्षक यह सुनिश्चित करने के लिए कि मतदान पूर्व और मतदान के पश्चात मतदान संबंधी कोई हिंसा न हो, पर्याप्त निवारक उपाय करेंगे तथा आवश्यक व्यवस्था करेंगे।
    12.    स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी एडवाइजरी के आलोक में, भारत निर्वाचन आयोग, मौजूदा परिस्थितियों पर पैनी नजर बनाए रखेगा और आगामी निर्वाचनों के लिए दिशों-निर्देशों को और सख्त कर सकता है।                 
     
    अनुबंध-1
    पश्चिम बंगाल के 159- भबानीपुर विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र में उप-निर्वाचन के लिए कार्यक्रम
     
    मतदान कार्यक्रम
    तारीख एवं दिन
    राज-पत्र की अधिसूचना जारी करने की तारीख
    06.09.2021, सोमवार
    नाम-निर्देशनों की अंतिम तारीख
    13.09.2021, सोमवार
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा की तारीख
    14.09.2021, मंगलवार
    अभ्यर्थिताओं को वापिस लेने की अंतिम तारीख
    16.09.2021, गुरुवार
    मतदान की तारीख
    30.09.2021, गुरुवार
    मतगणना की तारीख
    03.10.2021, रविवार
    वह तारीख, जिससे पहले निर्वाचन पूरा कर लिया जाएगा
    05.10.2021, मंगलवार
     
    अनुबंध-2
    पश्चिम बंगाल के 56-समसेरगंज एवं 58-जंगीपुर विधान सभा निर्वाचन क्षेत्रों तथा ओडिशा के 110-पिपिली विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र, जहां स्थगित मतदान आस्थगित कर दिए गए थे, में मतदान के लिए कार्यक्रम
     
    मतदान कार्यक्रम
    तारीख एवं दिन
    मतदान की तारीख 
    30.09.2021, गुरुवार
    मतगणना की तारीख
    03.10.2021, रविवार
    वह तारीख, जिससे पहले निर्वाचन पूरा कर लिया जाएगा 
    05.10.2021, मंगलवार

    36 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  23. भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दो दिवसीय स्वीप परामर्श कार्यशाला का आयोजन

    सं. ईसीआई/पीएन/76/2021
    अगस्त, 2021

    प्रेस नोट
     
    भारत निर्वाचन आयोग द्वारा दो दिवसीय स्वीप परामर्श कार्यशाला का आयोजन  
    व्यक्तिगत 'लेटर टू न्यू वोटर्स' की एक नई पहल का अनावरण; स्वीप के गीतों का संकलन जारी 
    स्वीप की टीमें मतदाता केंद्रित संदेश को सुनिश्चित करें; नामांकन और मतदान में सहजता सुनिश्चित करें: मुख्य निर्वाचन आयुक्त श्री सुशील चंद्रा
     
    भारत निर्वाचन आयोग ने 25-26 अगस्त, 2021 को दो दिवसीय स्वीप (सुव्यवस्थित मतदाता शिक्षा और निर्वाचक सहभागिता) परामर्श कार्यशाला का आयोजन किया। कार्यशाला का एजेंडा राज्य स्वीप योजनाओं की समीक्षा करना और आगामी निर्वाचनों के लिए व्यापक कार्यनीति हेतु स्वीप के महत्वपूर्ण पहलुओं पर व्यापक विचार-विमर्श करना था।

    प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए, मुख्य निर्वाचन आयुक्त, श्री सुशील चंद्रा ने कहा कि प्रत्येक मतदाता दो महत्वपूर्ण चरणों अर्थात् नामांकन के दौरान और मतदान दिवस पर निर्वाचन मशीनरी से रूबरू होता है और ये दोनों अनुभव बहुत सुखद होने चाहिएं। उन्होंने जोर देकर कहा कि फील्ड टीमों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि नामांकन प्रक्रिया निर्बाध हो और मतदाताओं के लिए मतदान का अनुभव सहज एवं सरल हो। उन्होंने यह भी कहा कि यह अत्‍यावश्‍यक है कि हम नियमित अंतराल पर अपनी कार्यनीति और वर्तमान कार्यकलापों का मूल्यांकन करें; महत्वपूर्ण अंतरालों की पहचान करें और प्रदेय कार्य बिंदुओं को तैयार करने के लिए चुनौतियों का समाधान करें। उन्होंने बल देते हुए कहा कि जमीनी स्तर पर कार्यनीति का क्रियान्वयन महत्वपूर्ण है। श्री चंद्रा ने 360-डिग्री स्वीप-संचार कार्यनीति की आवश्यकता पर जोर दिया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि मतदाताओं को निर्वाचन संबंधी सभी जानकारी उपलब्‍ध हो और हमारी स्वीप कार्यनीति मतदाता केंद्रित और बूथ केंद्रित होनी चाहिए। 
    श्री सुशील चंद्रा और निर्वाचन आयुक्त श्री राजीव कुमार ने मतदाताओं को उनके मतदाता पहचान पत्र भेजते समय आयोग के एक व्यक्तिगत पत्र के माध्यम से नए मतदाताओं तक पहुंचने के लिए एक नई पहल का अनावरण किया। इस पैकेज में नए मतदाताओं के लिए एक मतदाता मार्गदर्शिका के साथ एक बधाई पत्र और नैतिक मतदान की प्रतिज्ञा शामिल होगी।

    निर्वाचन आयुक्त श्री राजीव कुमार ने कहा कि आज की दुनिया में संचार की आवश्यकता स्वयं स्पष्ट है। उन्होंने आउटरीच प्रयासों में सोशल मीडिया और संचार के नए माध्यमों की भूमिका पर प्रकाश डाला। श्री कुमार ने समग्र संचार योजना के हिस्से के रूप में विषयगत कार्यनीति और वितरण चैनलों के महत्व पर विस्तार से बताया। उन्होंने कहा कि जिला स्तर के स्थानीय आइकन के साथ साझेदारी करने से हमारे मतदाताओं के साथ हमारे संदेश को मजबूत करने में मदद मिलेगी। 
    निर्वाचन आयुक्त श्री अनूप चंद्र पाण्डेय ने पिछले दिन टीमों के साथ बातचीत करते हुए स्वीप कार्यनीति में सोशल मीडिया तथा संचार के पारंपरिक रूपों के उपयोग के बीच तालमेल के महत्व पर प्रकाश डाला। श्री पाण्डेय ने कहा कि राज्य की टीमों को आगे भी इसी तरह की कार्यशालाओं को संचालित करने तथा संबंधित राज्यों में जिला निर्वाचन अधिकारियों तथा उनकी टीमों के साथ विचार करना चाहिए।

    महासचिव श्री उमेश सिन्हा ने अपने स्वागत भाषण के दौरान कहा कि परामर्श कार्यशाला स्वीप कार्यक्रम के मूल सिद्धांतों पर फिर से विचार करने तथा विभिन्न कार्यकलापों तथा उपागम पर नये सिरे से विचार करने में मदद करेगी। उन्होंने कहा कि स्वीप एक 360 डिग्री संचार योजना है जिसका उद्देश्य प्रत्येक मतदाताओं तक पहुंचना है।  
    आयोग ने 'महत्वपूर्ण है मत मेरा'- आयोग की एक त्रैमासिक पत्रिका, के नवीनतम अंक; निर्वाचक साक्षरता क्लबों के लिए ऑनलाइन क्रियाकलापों पर एक दस्तावेज और प्रेरक स्वीप गीतों के गीत के संकलन की एक गीत पुस्तिका का भी विमोचन किया।    
    इस दो दिवसीय परामर्श कार्यशाला में गोवा, पंजाब, मणिपुर, उत्तर-प्रदेश तथा उत्तराखण्ड के मुख्य निर्वाचक अधिकारियों और स्वीप नोडल अधिकारियों ने भाग लिया। विचार और ज्ञान के आदान-प्रदान को समृद्ध करने के लिए, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों को भी इस परामर्श कार्यशाला के लिए आमंत्रित किया गया था। कार्यशाला में वरिष्ठ जिला निर्वाचन अधिकारी, जिला निर्वाचन अधिकारी, महानिदेशक, मुख्य निर्वाचन अधिकारी, दिल्ली और निर्वाचन आयोग के वरिष्ठ अधिकारियों ने भी भाग लिया। 
     परामर्श कार्यशाला के भाग के रूप में व्यापक विषयों पर विचार मंथन सत्र आयोजित किए गए थे जिसमें महत्वपूर्ण अंतराल विश्लेषण एवं लक्षित कार्यकलाप (लिंग, युवा तथा सेवा निर्वाचक); दिव्यांगजन तथा वरिष्ठ नागरिक; निर्वाचक साक्षरता को मुख्यधारा में लाना तथा ईएलसी चुनाव पाठशाला तथा मतदाता जागरूकता मंच का पुनरोद्धार करना; स्वीप आउटरीच को बढ़ाने के लिए मीडिया तथा सोशल मीडिया का उपयोग करना; सहयोग तथा साझेदारिता का लाभ उठाना तथा बूथ तैयार करना, विधान सभा निर्वाचन क्षेत्र, कम मतदान वाले क्षेत्रों पर विशेष ध्यान देते हुए जिलावार स्वीप योजना तैयार करना शामिल थी। 
    विषयगत वार्तालाप के इनपुट के आधार पर, सीईओ ने आगामी निर्वाचनों के लिए अपनी राज्य विशिष्ट स्वीप योजनाएं प्रस्तुत की।

    सुव्यवस्थित मतदाता शिक्षा और जागरूकता भागीदारी कार्यक्रम भारत में मतदाता शिक्षा और जागरूकता, मतदाता जागरूकता फैलाने तथा मतदाता साक्षरता को बढ़ावा देने के लिए भारत निर्वाचन आयोग का सर्वोत्कृष्ट कार्यक्रम है। स्वीप का प्राथमिक लक्ष्य सभी पात्र नागरिकों को मतदान करने और संसूचित निर्णय और नैतिक विकल्प लेने हेतु प्रोत्‍साहित करके एक समावेशी और सहभागी लोकतंत्र का निर्माण करना है।

    33 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  24. तमिलनाडु से राज्य सभा के लिए उप-निर्वाचन - तत्संबंधी।

    सं. ईसीआई/प्रे. नो./75/2021 
    दिनांकः 17 अगस्त, 2021
     
    प्रेस नोट 
    विषयः-  तमिलनाडु से राज्य सभा के लिए उप-निर्वाचन - तत्संबंधी।  
    तमिलनाडु से राज्य सभा में निम्नलिखित विवरण के अनुसार एक आकस्मिक रिक्ति हैः- 
    सदस्य का नाम
    कारण
    रिक्ति की तारीख
    पदावधि
    तिरू. ए. मोहम्मदजान
    मृत्यु
    23.03.2021
    24.07.2025
    2.   आयोग ने निम्‍नलिखित कार्यक्रम के अनुसार उपरोक्‍त रिक्ति को भरने हेतु तमिलनाडु से राज्य सभा के लिए उप-निर्वाचन आयोजित करने का निर्णय लिया है:-  
    क्र. सं.
    कार्यक्रम
    तारीख
    1.
    अधिसूचना जारी करना
    24 अगस्त, 2021 (मंगलवार)
    2.
    नाम-निर्देशन करने की अंतिम तारीख
    31 अगस्त, 2021 (मंगलवार)
    3.
    नाम-निर्देशनों की संवीक्षा
    1 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    4.
    अभ्‍यर्थिताएं वापस लेने की अंतिम तारीख
    3 सितम्बर, 2021 (शुक्रवार)
    5.
    मतदान की तारीख
    13 सितम्बर, 2021 (सोमवार)
    6.
    मतदान का समय
    पूर्वाह्न 9.00 बजे से अपराह्न 4.00 बजे तक
    7.
    मतगणना
    13 सितम्बर, 2021 (सोमवार) को अपराह्न 5:00 बजे
    8.
    वह तिथि, जिससे पूर्व निर्वाचन सम्‍पन्‍न हो जाएगा
    15 सितम्बर, 2021 (बुधवार)
    3.    सम्पूर्ण निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान सभी व्यक्तियों के लिए अनुपालन हेतु व्यापक दिशा-निर्देश:-
                  I.      निर्वाचन संबंधी प्रत्येक गतिविधि के दौरान हर एक व्यक्ति फेस मास्क पहनेगा।
                 II.      निर्वाचन के प्रयोजनों के लिए उपयोग किए जाने वाले हॉल/कमरा/परिसरों के प्रवेश पर:-
                               (क) सभी व्यक्तियों की थर्मल स्कैनिंग की जाएगी।
                               (ख) सभी स्थानों पर सैनिटाइजर उपलब्ध कराए जाएंगे। 
                III.      राज्य सरकार और गृह मंत्रालय के मौजूदा कोविड-19 दिशा-निर्देशों के अनुसार सामाजिक दूरी बरकरार रखी जाएगी। 
    4.    मुख्य सचिव, तमिलनाडु को निदेश दिया जा रहा है कि वे राज्य से एक वरिष्ठ अधिकारी को यह सुनिश्चित करने हेतु प्रतिनियुक्त करें कि उक्त उप-निर्वाचन करवाने संबंधी व्यवस्थाएं करते समय कोविड-19 की रोकथाम के उपायों से संबंधित मौजूदा दिशा-निर्देशों का अनुपालन किया जाए।

    38 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

  25. प्रेस वक्तव्य

    सं. ईसीआई/प्रे. नो./74/2021
    दिनांकः 13 अगस्त, 2021
     
    प्रेस वक्तव्य
     कुछ मीडिया साइटें भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) की साइट से डाटा की चोरी की खबरें दें रहीं हैं। 
    सहायक निर्वाचक नामावली अधिकारियों (एईआरओ) को मतदाता पहचान पत्र के मुद्रण और इसके समय पर वितरण सहित नागरिक-केंद्रित सेवाएं प्रदान करने के लिए अधिदेशित किया गया है, जो आयोग के "कोई मतदाता न छूटे" की थीम के अनुरूप है। एक एईआरओ कार्यालय के डाटा एंट्री ऑपरेटर ने कुछ मतदाता पहचान पत्रों को मुद्रित करने के लिए सहारनपुर के नकुड उप-मंडल में एक निजी अनधिकृत सेवा प्रदाता के साथ अपना यूजर आईडी पासवर्ड अवैध रूप से साझा किया था। 
    इन दोनों व्यक्तियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। भारत निर्वाचन आयोग (ईसीआई) का डाटाबेस पूर्णतया सुरक्षित और महफूज़ है।

    46 downloads

    फ़ाइल सबमिट की गई

ईसीआई मुख्य वेबसाइट


eci-logo.pngभारत निर्वाचन आयोग एक स्‍वायत्‍त संवैधानिक प्राधिकरण है जो भारत में निर्वाचन प्रक्रियाओं के संचालन के लिए उत्‍तरदायी है। यह निकाय भारत में लोक सभा, राज्‍य सभा, राज्‍य विधान सभाओं और देश में राष्‍ट्रपति एवं उप-राष्‍ट्रपति के पदों के लिए निर्वाचनों का संचालन करता है। निर्वाचन आयोग संविधान के अनुच्‍छेद 324 और बाद में अधिनियमित लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम के प्राधिकार के तहत कार्य करता है। 

मतदाता हेल्पलाइन ऍप

हमारा मोबाइल ऐप ‘मतदाता हेल्‍पलाइन’ प्‍ले स्‍टोर एवं ऐप स्टोर से डाउनलोड करें। ‘मतदाता हेल्‍पलाइन’ ऐप आपको निर्वाचक नामावली में अपना नाम खोजने, ऑनलाइन प्ररूप भरने, निर्वाचनों के बारे में जानने, और सबसे महत्‍वपूर्ण शिकायत दर्ज करने की आसान सुविधा उपलब्‍ध कराता है। आपकी भारत निर्वाचन आयोग के बारे में हरेक बात तक पहुंच होगी। आप नवीनतम  प्रेस विज्ञप्ति, वर्तमान समाचार, आयोजनों,  गैलरी तथा और भी बहुत कुछ देख सकते हैं। 
आप अपने आवेदन प्ररूप और अपनी शिकायत की वस्‍तु स्थिति के बारे में पता कर सकते हैं। डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें। आवेदन के अंदर दिए गए लिंक से अपना फीडबैक देना न भूलें। 

×
×
  • Create New...