मतदाता हेल्पलाइन ऐप (एंड्राइड के लिए)
अंग्रेज़ी में देखें   |   मुख्य विषयवस्तु में जाएं   |   स्क्रीन रीडर एक्सेस   |   A-   |   A+   |   थीम
Jump to content

Use the Advance Search of Election Commission of India website

Showing results for tags 'gps'.

  • टैग द्वारा खोजें

    Type tags separated by commas.
  • Search By Author

Content Type


श्रेणियाँ

  • वर्तमान मुद्दे
  • महत्वपूर्ण निर्देश
  • निविदा
  • प्रेस विज्ञप्तियाँ
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2020
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2019
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2018
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2017
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2016
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2015
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2014
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2013
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2012
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2011
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2010
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2009
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2008
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2007
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2006
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2005
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2004
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2003
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2002
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2001
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 2000
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 1999
    • प्रेस विज्ञप्तियाँ 1998
  • हैंडबुक, मैनुअल, मॉडल चेक लिस्ट
    • हैंडबुक
    • मैनुअल
    • मॉडल चेक लिस्ट
    • ऐतिहासिक निर्णय
    • अभिलेखागार
  • अनुदेशों के सार-संग्रह
    • अनुदेशों के सार-संग्रह (अभिलेखागार)
  • न्यायिक संदर्भ
    • के आधार पर निरर्हता -
    • अयोग्य व्यक्तियों की सूची
    • आदेश और नोटिस - आदर्श आचार संहिता
    • आदेश और नोटिस - विविध
  • ई वी एम
    • ई वी एम - ऑडियो फाइल
  • उम्मीदवार/ प्रत्याशी
    • उम्मीदवार/ प्रत्याशी के शपथ पत्र
    • उम्मीदवार/प्रत्याशी का निर्वाचन व्यय
    • उम्मीदवार/प्रत्याशी नामांकन और अन्य प्रपत्र
  • राजनीतिक दल
    • राजनीतिक दलों का पंजीकरण
    • राजनीतिक दलों की सूची
    • निर्वाचन चिह्न
    • राजनीतिक दलों का संविधान
    • संगठनात्मक चुनाव
    • पार्टियों की मान्यता / मान्यता रद्द करना
    • विवाद, विलय आदि
    • विविध, आदेश, नोटिस, आदि
    • पारदर्शिता दिशानिर्देश
    • वर्तमान निर्देश
    • योगदान रिपोर्ट
    • इलेक्टोरल ट्रस्ट
    • व्यय रिपोर्ट
    • वार्षिक लेखा परीक्षा रिपोर्ट
  • साधारण निर्वाचन
  • विधानसभा निर्वाचन
  • उप-निर्वाचन
  • उप-निर्वाचन के परिणाम
  • राष्ट्रपति निर्वाचन
  • सांख्यिकीय रिपोर्ट
  • पुस्तकालय और प्रकाशन
  • न्यूज़लैटर
  • साइबर सुरक्षा न्यूज़लैटर
  • प्रशिक्षण सामग्री
  • निर्वाचक नामावली
  • परिसीमन
  • परिसीमन वेबसाइट
  • अंतरराष्ट्रीय सहयोग
  • बेस्ट शेयरिंग पोर्टल
  • निर्वाचन घोषणापत्र
  • राजभाषा
  • संचार
  • प्रस्तावित निर्वाचन सुधार
  • प्रेक्षक निर्देश
  • प्रवासी मतदाता
  • अंतरराष्ट्रीय सहयोग
  • अन्य संसाधन
  • अभिलेखागार

Categories

  • निर्वाचन
    • राज्यों की परिषद के लिए निर्वाचन
    • राष्ट्रपतिय निर्वाचन
    • आरओ/डीईओ के लिए अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न
    • निर्वाचन तन्त्र
    • संसद
    • निर्वाचन क्षेत्रों का परिसीमन
    • निर्वाचनों में खड़ा होना
    • परिणाम की गणना एवं घोषणा
  • मतदाता
    • सामान्य मतदाता
    • प्रवासी मतदाता
    • सेवा मतदाता
  • ई वी ऍम
    • सामान्य प्रश्न / उत्तर
    • सुरक्षा विशेषताएं
  • राजनीतिक दलों का पंजीकरण
  • आदर्श आचार संहिता

Categories

  • ईवीएम जागरूकता फिल्में
  • ईवीएम प्रशिक्षण फिल्में

Categories

  • मतदाता हेल्पलाइन ऍप
  • सी विजिल
  • उम्मीदवार सुविधा ऍप
  • पी डव्लू डी ऍप
  • वोटर टर्न आउट ऐप

Categories

  • Web Applications
  • Mobile Applications

Find results in...

ऐसे परिणाम ढूंढें जिनमें सम्‍मिलित हों....


Date Created

  • Start

    End


Last Updated

  • Start

    End


Filter by number of...

Found 2 results

  1. जीपीएस की सटीकता कैसे सुधारें ? सी विजिल स्‍मार्ट जीपीएस प्रौद्योगिकी का नवोन्‍मेषी उपयोग आचार संहिता/व्‍यय उल्‍लंघन संबंधी प्रबंधन करने के लिए किया जाता है। आपका जीपीएस सेंसर आपके एन्‍ड्रॉयड फोन को सी विजिल सिटिजन, इन्‍वेस्‍टीगेटर, आब्‍जर्वर और मॉनिटर एप्‍स का उपयोग करता है और आपकी जियो लोकेशन को अच्‍छी तरह टैग करता है। सी विजिल का उपयोग करने के लिए अच्‍छे सिगनल का होना महत्‍वपूर्ण है। तथापि, जितनी अधिक सटीकता की आवश्‍यकता होगी, उतना अधिक समय सटीक जीपीएस माप प्राप्‍त करने के लिए लग सकता है। जीपीएस यंत्र को नियत करने में समय लगता है और तब यह आपके चलने के साथ ही इस पर अपनी पकड़ बनाने की पूरी कोशिश करेगा। जैसा कि जीपीएस डाटा में त्रुटि की संभावना होती है और यदि कोई सही लोकेशन मैनेजर प्रदाता को लगाता है तो लोकेशन में कभी-कभी यह स्थिति हो सकती है कि थोड़ा बहुत विचलन हो जाए। नोट करने वाली बात यह है कि जीपीएस सटीकता केवल एक अनुमान देती है कि प्राप्‍त जीपीएस सिग्‍नल की गणना कितनी अच्‍छी तरह की गई है। सिस्‍टमेटिक एरर अच्‍छी सटीकता संख्‍या (<10m) दे सकती है लेकिन फिर भी एक बड़ी पोजिशन एरर दिखा सकती है। ऐसा इ‍सलिए होता है कि बहुत अच्‍छी सटीकता होने के बावजूद भी कंपन हो सकता है। सटीकता उपाय बहुत बड़ी एरर (>100m) को दूर करने के लिए अच्‍छा है परंतु एक छोटे लेवल पर यह केवल एक संकेत देता है कि गणना उसी स्‍थान की हुई है। सी विजिल बहुत बड़ी त्रुटियों को दूर करने के लिए एलगोरिथम का प्रयोग करता है परंतु फिर भी इन साधारण युक्तियों से सटीकता को सुधारने और छोटी-मोटी त्रुटियों को कम करने की संभावना होती है। इसलिए यहां पर आपके उपकरण पर जीपीएस सिग्‍नल को सुधारने के उपाय दिए गए हैं। मैं 4 नि:शुल्‍क एन्‍ड्रायड एप को सूचीबद्ध करूंगा जो ऐसे उपकरण हैं जो बेहतर जीपीएस सटीकता में आपकी मदद करेंगे। जीपीएस क्‍या है ? यह जानने के लिए कि आप अपने जीपीएस में कैसे सुधार करें, यह समझना आवश्‍यक है कि यह कैसे कार्य करता है। जीपीएस का पूरा नाम ग्‍लोबल पोजिशनिंग सिस्‍टम है और इसे यूएस आर्मी द्वारा वर्ष 1973 में विकसित किया गया था, परंतु वर्ष 1980 में इसे नागरिक उदेश्‍यों के लिए जारी कर दिया गया था। आरंभ में इसे 24 सैटेलाइटों के साथ प्रयोग किया गया था परंतु अभी आर्बिट में 31 जीपीएस सैटलाइट हैं। आपका स्‍मार्टफोन इन सैटेलाइटों के द्वारा एक जीपीएस जो आज के अधिकांश र्स्‍माटफोन और टैबलेट में हार्डवेयर का एक भाग होता है, के माध्‍यम से संचारित होता है। यह हार्डवेयर साफ्टवेयर के साथ एक ड्राइवर के माध्‍यम से जुड़ा होता है। अत: स्‍मार्टफोन जीपीएस सिग्‍नल में एरर के तीन मूल स्रोत होते हैं:- वर्तमान लोकेशन पर जीपीएस सैटेलाइटों की संख्‍या स्‍मार्टफोन में जीपीएस एन्‍टीना की गुणवत्‍ता ऑपरेटिंग सिस्‍टम में ड्राइवर का कार्यान्‍वयन इसके अतिरिक्‍त, जीपीएस सिग्‍नल किसी भी उस चीज से प्रभावित होता है जो आपके स्‍मार्टफोन में हमारे ऊपर घूमने वाले जीपीएस सैटेलाइटों से कमजोर प्रसारण प्राप्‍त कर बाधा डालता है। आस-पास के वृक्ष, कार, भवन, बड़े मौसमी तूफान सटीकता को कम करते हैं, और इस प्रकार किसी भवन के भीतर या पेड़ के नीचे होने पर भी सटीकता कम हो सकती है। सटीकता का क्‍या अर्थ होता है ? पहले संक्षिप्‍त में यह देखें कि सटीकता का क्‍या अर्थ है। तकनीकी अर्थ में सटीकता आपको जीपीएस से अक्षांश, देशांतर और सटीकता संख्‍या प्राप्‍त होती है। तब आप सटीकता संख्‍या को रेडियस के रूप में उपयोग करते हुए अक्षांश/देशांतर बिंदु के चारों ओर एक सर्कल खींच सकते हैं। इसकी अत्‍यधिक संभावना है कि आपकी वास्‍तविक लोकेशन उस सर्कल के भीतर ही कहीं है। यह दुर्भाग्‍यपूर्ण है कि साधारणतया, मोबाइल जीपीएस डिवाइसेज़ प्रोबेबिलिटी फैक्‍टर के साथ नहीं आते हैं जो यह संकेत देते हैं कि इस सटीकता संख्‍या पर कितना विश्‍वास किया जाए। इसी रूप में हमें इस पर कुछ भरोसा करना होगा कि हमारी वास्‍तविक लोकेशन वास्‍तव में कहीं न कहीं इसी सटीकता के भीतर है। जब सी विजिल खोला जाता है तो बिल्‍कुल सही परिस्थितियों में आपका खास स्‍मार्टफोन जीपीएस चिप एक बार में कई मिनटों के लिए लगभग 3 मीटर (~10 फीट) की सटीकता डिलीवर करेगा। आकाश में बिना बादल के हिमालय पर्वत की ऊंची चोटी पर खड़े होने पर सही स्थिति के करीब हो सकता है। किस परिस्थिति को मैं ‘’औसत’’ परिस्थितियां कहूंगा जो दिन-प्रतिदिन के इन-सिटी(शहर के भीतर) उपयोग पैटर्नों में परिलक्षित होती हैं, आप 3-150 मीटर (10फीट-500फीट) या और अधिक तक की सटीकता की उम्‍मीद कर सकते हैं और सटीकता संख्‍या में मिनटों या घंटों की कालावधि में विशेष रूप से थोड़ा बहुत उतार-चढ़ाव हो सकता है। इसी स्थिति में हम सटीकता 100 मीटर से कम करने का प्रयास करते हैं। ‘हाई एकुरेसी’ मोड को ऑन रखें सबसे अच्‍छा सिग्‍नल प्राप्‍त करने के लिए आपको सामान्‍य से अधिक बैटरी का उपयोग करने के लिए तैयार रहना होगा। यह एक अनिवार्य त्‍याग है, और इसे आप बाद में हमेशा रिवर्स कर सकते हैं जब आपको जीपीएस के उपयोग की और अधिक आवश्‍यकता न हो। इसे सक्रिय करना आसान है; केवल कुछ चरणों का पालन करें और आप यह सही तरह से कर पाएंगे। अपनी ‘सैटिग्‍ंस’ पर जाएं और ‘लोकेशन’ पर टैप करें और सुनिश्चित करें आपकी ‘लोकेशन’ सेवाएं चालू हैं। आपको इसे अपनी स्‍क्रीन के शीर्ष पर दाएं हाथ की ओर खिसकाना चाहिए। यह हरा होना चाहिए और यह दाईं ओर होना चाहिए। अब, ‘लोकेशन’ के अंतर्गत पहली श्रेणी ‘मोड’ होनी चाहिए, उस पर ‘टैप’ करें और यह सुनिश्चित करें कि यह हाई एक्‍यूरेसी पर व्‍यवस्थित हो गया है। यह आपकी लोकेशन का पता लगाने के लिए आपके जीपीएस के साथ-साथ आपके वाई-फाई और मोबाइल नेटवर्क का भी प्रयोग करता है। इसमें ज्‍यादा बैटरी का प्रयोग होगा, परंतु आपको, जहां तक संभव हो, सबसे सही लोकेशन देने के लिये सभी उपलब्‍ध पद्धतियों का प्रयोग करेगा। सी-विजिल स्‍वत: ही हाई एक्‍यूरेसी मोड का प्रयोग करने का प्रयास करता है परंतु कभी-कभी यह असफल भी हो सकता है। अत:, उपर्युक्‍त पद्धतियां सी-विजिल के प्रभावी रूप से कार्य करने में मदद करेंगी। जीपीएस को पुन: अंशांकन करने हेतु कंपास ऐप का प्रयोग करना यदि आपको यह संदेह है कि आपकी कंपास सही ढंग से काम नहीं कर रही है, तो आप इस कंपास को पुन: अंशांकित कर सकते हैं। इसके लिए आपको कंपास ऐप की आवश्‍यकता होगी। कुछ फोनों में यह सुविधा पहले से ही विद्यमान होती है। यदि ऐसा हो तो, इसे चालू करें और पुन: अंशांकन की प्रक्रिया अपनाएं ताकि आपके जीपीएस सिग्‍नल को अति अपेक्षित रिफ्रेश मिल सके। यदि आपकी एंड्रायड डिवाइस में कंपास ऐप नहीं है तो आप इसे प्‍ले स्‍टोर से डाउनलोड कर सकते हैं और इसे इसी प्रकार करें। कंपास गैलेक्‍सी एक अच्‍छा और विश्‍वसनीय विकल्‍प है। जीपीएस सिग्‍नल को सक्रिय रखें एक ऐप्‍प से दूसरे ऐप्‍प में जाते समय हम जिस मुख्‍य समस्‍या का सामना करते हैं वह है बैटरी बचाने के लिए जीपीएस को बंद करना। उदाहरणार्थ, यदि आप सी-विजिल का प्रयोग कर रहे हैं और अपने हाल ही के संदेशों को देखना चाहते हैं, तो आपका जीपीएस बंद हो सकता है। तथापि, आप अपना जीपीएस सिग्‍नल सक्रिय रख सकते हैं। ऐसा करने के लिए आपको अवश्‍य ही जीपीएस ऐप्‍प इंसटाल करना चाहिए। हम क्‍नेक्टिड जीपीएस की सिफारिश करते हैं। यह एक सरल ऐप्‍प है और यह कमाल करता है। यह ध्‍यान में रखें कि ऐसा करने से बैटरी की लाइफ कम हो सकती है। जीपीएस कनेक्टिड पता लगाएं कि आपकी जीपीएस समस्‍याएं हार्डवेयर संबंधी हैं या सॉफ्टवेयर संबंधी: जीपीएस इसेंशियल निशुल्‍क एंड्राएड ऐप से आप यह पता लगा सकते हैं कि क्‍या जीपीएस का खराब सिग्‍नल हार्डवेयर की समस्‍या है या सॉफ्टवेयर की समस्‍या। जीपीएस इसेंशियल मुख्‍य मेन्‍यू में ‘सेटेलाइट’ को टैप करें, तत्‍पश्‍चात यह देखें (आपको आश्‍चर्य होगा) कि आपका फोन पृथ्‍वी के ‘सेटेलाइट’ से कनेक्‍ट हो रहा है। यदि कोई सेटेलाइट दिखाई नहीं देता है तो यह आपके पास धातु की वस्‍तुओं यथा एफएसटी जीप, आपके स्‍मार्टफोन केस से व्‍यवधान के कारण या आपका जीपीएस हार्डवेयर ठीक से काम नहीं करने के कारण हो सकता है। यदि सैटेलाइट तो दिखाई देता है परंतु आपका जीपीएस फिर भी काम नहीं कर रहा है, तो यह सॉफ्टवेयर की समस्‍या है। अपने जीपीएस डाटा को रीफ्रेश करें कभी-कभी आपकी डिवाइज़ कतिपय जीपीएस सैटेलाइट्स पर आकर ‘अटक’ जाएगी भले ही वे रेंज के अंतर्गत न हों, और इसकी वजह से यह ठीक से कार्य नहीं करेगी। इसे ठीक करने के लिए आप जीपीएस स्‍टेटस और टूलबॉक्‍स जैसे ऐप्‍प का प्रयोग कर सकते हैं ताकि आप अपने जीपीएस डाटा को क्लियर कर सकें और नए सिरे से सैटेलाइट से जुड़ना शुरू हो जाए। इस ऐप्‍प में, स्‍क्रीन पर कहीं भी टैप करें और फिर ‘मेन्‍यू ऑईकॉन’ पर टैप करें और ‘मैनेज ए-जीपीएस’ पर हिट करें। ‘रीसेट’ पर टैप करें और बाद में जब यह पूरा हो जाए तो मैनेज ए-जीपीएस स्‍टेट’ मेन्‍यू पर वापिस जाएं और डाउनलोड पर टैप करें। आपका जीपीएस डाटा अब ‘रिफ्रेश’ हो जाना चाहिए और यदि यह पुन: चालू हो जाता है तब इस प्रक्रिया को फिर से दोहराएं। जीपीएस स्‍टेटस और टूलबॉक्‍स बाहरी जीपीएस रिसीवर प्राप्‍त करें यदि आपका स्‍मार्टफोन जीपीएस पर्याप्‍त नहीं हो, तो आपके लिए यह उपयुक्‍त होगा कि आप एक बाहरी रिसीवर प्राप्त कर लें। इसे ब्‍लूटुथ के माध्‍यम से स्‍मार्टफोन से जोड़ा जा सकता है और उसी चार्जर से रीचार्ज किया जा सकता है। कार्मिकों के रूप में यह बहुत महत्‍वपूर्ण है कि सी-विजिल मामलों को रिपोर्ट करने के लिए आपकी सी-विजिल एप्‍लीकेशन, जीपीएस डाटा का भली प्रकार उपयोग करती है, रिपोर्ट दर्ज करती है और इनवेस्‍टीगेटर को जिला कलेक्‍टर डैशबोर्ड पर प्रदर्शित करती है। इन उपायों से आप आदर्श आचार संहिता/व्‍यय उल्‍लंघन संबंधी मामलों को समझदारी से हैंडल करने में भारत निर्वाचन आयोग की मदद कर सकते हैं।
  2. 268 downloads

    The Commission has accordingly reviewed the matter and has decided that following instructions shall be strictly followed in all future movement of EVMs and VVPATs: a) The end-to-end movement of all Reserve EVMs and VVPATs shall be carefully monitored at all times, for which all Sector Officers'vehicles with Reserve EVMs and VVPATs. b) There shall be a real time tracking and monitoring of the movement of EVMs and VVPATs through the GPS-enabled/Mobile App based GPS tracking used in the vehicles carrying EVMs and vvPATs. For this purpose, an 'EVM Control Room' shall be set up at DEO as well as CEO level, wherein the movement of EVMs and VVPATs shall be monitored and tracked through GPS Monitors and other related IT infrastructure/APP

ईसीआई मुख्य वेबसाइट


eci-logo.pngभारत निर्वाचन आयोग एक स्‍वायत्‍त संवैधानिक प्राधिकरण है जो भारत में निर्वाचन प्रक्रियाओं के संचालन के लिए उत्‍तरदायी है। यह निकाय भारत में लोक सभा, राज्‍य सभा, राज्‍य विधान सभाओं और देश में राष्‍ट्रपति एवं उप-राष्‍ट्रपति के पदों के लिए निर्वाचनों का संचालन करता है। निर्वाचन आयोग संविधान के अनुच्‍छेद 324 और बाद में अधिनियमित लोक प्रतिनिधित्‍व अधिनियम के प्राधिकार के तहत कार्य करता है। 

मतदाता हेल्पलाइन ऍप

हमारा मोबाइल ऐप ‘मतदाता हेल्‍पलाइन’ प्‍ले स्‍टोर एवं ऐप स्टोर से डाउनलोड करें। ‘मतदाता हेल्‍पलाइन’ ऐप आपको निर्वाचक नामावली में अपना नाम खोजने, ऑनलाइन प्ररूप भरने, निर्वाचनों के बारे में जानने, और सबसे महत्‍वपूर्ण शिकायत दर्ज करने की आसान सुविधा उपलब्‍ध कराता है। आपकी भारत निर्वाचन आयोग के बारे में हरेक बात तक पहुंच होगी। आप नवीनतम  प्रेस विज्ञप्ति, वर्तमान समाचार, आयोजनों,  गैलरी तथा और भी बहुत कुछ देख सकते हैं। 
आप अपने आवेदन प्ररूप और अपनी शिकायत की वस्‍तु स्थिति के बारे में पता कर सकते हैं। डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें। आवेदन के अंदर दिए गए लिंक से अपना फीडबैक देना न भूलें। 

×
×
  • Create New...